छात्रों का ट्यूशन टीचर निकला चित्रकूट अपहरण और हत्याकांड का मास्टरमाइंड

Spread the love

सतना। रविवार सुबह दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है। मध्य प्रदेश के सतना से अपहृत चित्रकूट के व्यवसायी के दो जुड़वां बच्चों के शव 13 दिन बाद आज बांदा में यमुना नदी में मिले। एक दिन पहले ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पुलिस अफसरों की बैठक में इस अपहरण के बारे में सवाल किए थे।

चित्रकूट की सीमा से सटे मध्य प्रदेश के सतना में सद्गुरु सेवा संघ ट्रस्ट के सद्गुरु पब्लिक स्कूल से 12 फरवरी को अपहृत आयुर्वेदिक तेल कारोबारी ब्रजेश रावत के दोनों बच्चों के शव आज बांदा जिले के बबेरु थाना क्षेत्र में यमुना नदी में मिलने से सनसनी फैल गई।

अपहरणकर्ताओं ने पांच वर्षीय जुड़वा बेटों प्रियांश व श्रेयांश रावत की हत्या कर शव बांदा जिले के बबेरू थानान्तर्गत औगासी गांव के पास यमुना नदी में फेंक दिए थे। जानकीकुंड ट्रस्ट परिसर से 13 दिन पहले अपहृत बच्चों को ढूंढने में एमपी यूपी की 26 पुलिस टीम के साथ ही साथ एसटीएफ फेल रही।

आज सुबह पुलिस को सूचना मिली और दोनों शव को बरामद किया गया। शवों की हालत देखकर साफ जाहिर की हत्या तीन से चार दिन पहले हुई है। दोनों शवों को जंजीर से बांध कर फेंका गया। बच्चों के शव मिलने के बाद धर्म नगरी चित्रकूट के रामघाट सीतापुर निवासी तेल कारोबारी ब्रजेश रावत के परिवार का बुरा हाल है।

सतना के कई थानों के फोर्स नया गांव पहुंच चुका है। सतना एसपी संतोष सिंह गौर ने भी बच्चों की हत्या की पुष्टि की है।

गौरतलब है कि गत 12 फरवरी को कट्टे को नोंक पर दिन दहाड़े दोनों जुड़वा भाइयों का स्कूल बस से अपहरण कर लिया गया था। घटना के बाद से पुलिस लगातार छानबीन में जुटी थी, लेकिन कोई सुराग नहीं लगा था.

सतना के एसपी संतोष गौड़ (SP Santosh Gaur ) ने बताया, ‘शव मिल चुके हैं और हमने 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। एक मध्यप्रदेश का निवासी है जबकि अन्य पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के हैं।’ 2 मासूम बच्चों के अपहरण और हत्या के मामले में मास्टर माइंड छात्रों का ट्यूशन टीचर निकला। अपहरणकर्ताओं ने मासूमों का अपहरण करने के बाद 20 लाख रुपए फिरौती वसूली और फिर बच्चों की हत्या कर दी।

सूत्रों का कहना है कि आरोपी इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र हैं। जो उसी ट्रस्ट द्वारा संचालित किया जाता है जिसकी स्कूल में जुड़वां बच्चे पढ़ा करते थे। एक आरोपी बच्चों को ट्यूशन दिया करता था और माना जा रहा है कि उसने ही दूसरे आरोपी को सूचना दी है। सभी ने पहली बार अपराध को अंजाम दिया है।

चित्रकूट की दुखद घटना पर कमलनाथ जी का वक्तव्य :

“चित्रकूट से अपहृत दोनों मासूम देवांश और प्रियांश के शव मिलने की ख़बर अत्यंत दुःख है। मैंने बच्चों के पिता से फोन पर बात कर मासूमों की हत्या करने वाले अपराधियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने का आश्वासन दिया है”।

—कमलनाथ


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *