गोरक्षा के नाम पर महिला समेत 3 लोगों की बेरहमी से पिटाई, वीडियो वायरल

Spread the love

सिवनी : मध्यप्रदेश के सिवनी में गोरक्षा की आड़ में गोरक्षकों की गुंडागर्दी का कथित वीडियो सामने आया है. इस वीडियो में गोरक्षक एक महिला समेत तीन लोगों को बंधक बनाकर बेरहमी से पीटते नजर आ रहे हैं. ये वीडियो डूंडा सिवनी इलाके का है.

दो दिन पहले कथित गोरक्षकों ने एक ऑटो में संदिग्ध मांस मिलने की सूचना मिलने पर तीनों को पकड़ा और इस बात की सूचना पुलिस को देने की बजाय खुद ही गुंडागर्दी दिखाते हुए ऑटो में बैठी एक महिला और दो युवकों को बंधक बना कर लाठियों और डंडो से पीटना शुरू कर दिया. इस बेरहमी की हद तब हो गई जब महिला को उसी युवक से चप्पल से पिटवाया गया और तीनों से जय श्री राम के नारे लगाने पर मजबूर किया गया.

मौके पर मौजूद लोगों ने भी इस बात की सूचना पुलिस को देना जरूरी नहीं समझा और सभी तमाशबीन बने रहे. इलाके के एसपी ललित शाक्यवार का कहना है कि वीडियो 4 दिन पुराना है, इस मामले में 4 लोगों को गिरफ्तारी हो गई है जिन्हें अदालत ने जेल भेज दिया है. एक और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है जिसे आज अदालत के सामने पेश किया जाएगा.

वीडियो में गले में गमछा बांधे हुए जिस शख्स की पिटाई हो रही है, उसका नाम दिलीप मालवीय है और उस पर पहले भी गोतस्करी के आरोप लगे हैं. वीडियो वायरल होने के बाद दिलीप की बहन ने एफआईआर दर्ज कराई है. कुल 4 लोगों की पिटाई हुई है, जिसमें गोमांस तस्करी का मुख्य आरोपी हिन्दू है, बाकी तीन मुस्लिम हैं.

इस मामले में एडीशनल एसपी गोपाल खंडेल ने कहा, ’22 मई को डूडा सिवनी थाना प्रभारी को सूचना मिली थी कि दिलीप मालवीय और अन्य लोग पशु मांस ले जा रहे हैं, इस पर थाना प्रभारी ने अपने स्टाफ के साथ उनको घेराबंदी कर पकड़ा था और उनके विरूद्ध वैधानिक कार्रवाई की थी. इसके बाद अगले दिन एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें जो आरोपी पकड़े गये थे उनके खिलाफ मारपीट दिख रही थी.

यह घटना संज्ञान में आने पर फौरन आरोपियों की पहचान करके उनके खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया गया और अब सभी 5 मुख्य आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जा रही है. इसमें मारपीट की धारा 323, 294, 506, 341 और 147 में कार्रवाई की जा रही है. मांस को जांच के लिए फॉरेंसिक लैब हैदराबाद भेजा गया है, जांच के बाद पता लगेगा कि मांस किस चीज का है.’


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *