12 साल तक अचल सम्पत्ति पर जिसका कब्जा, वही बन जाएगा कानूनी मालिक….उच्चतम न्यायालय का महत्वपूर्ण फैसला

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

नई दिल्ली। देश की सर्वोच्च अदालत ने अपने एक महत्वपूर्ण फैसले में कहा कि 12 साल तक किसी की अचल सम्पत्ति पर जिसका कब्जा होगा, वही उसका कानूनी मालिक बन जाएगा। तो सावधान हो जाइए अगर आपकी किसी अचल संपत्ति पर किसी ने कब्जा जमा लिया है तो उसे वहां से हटाने में लेट लतीफी नहीं करें।

अपनी संपत्ति पर दूसरे के अवैध कब्जे को चुनौती देने में देर की तो संभव है कि वह आपके हाथ से हमेशा के लिए निकल जाए। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने इस संबंध में एक बड़ा फैसला दिया है। इसके तहत अगर वास्तविक या वैध मालिक अपनी अचल संपत्ति को गैर के कब्जे से अपने अधीन लेने के लिए समयसीमा के अंदर कदम नहीं उठा पाएंगे, तो उनका मालिकाना हक समाप्त हो जाएगा और उस अचल सम्पत्ति पर जिसने कब्जा कर रखा है, उसी को कानूनी तौर पर मालिकाना हक भी दे दिया जाएगा।

इसे भी पढ़ें :- बीजेपी विधायक के बिगड़े बोल, कहा- अब कोई भी गोरी-गोरी कश्मीरी लड़कियों से कर सकता है शादी

हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में यह भी स्पष्ट कर दिया कि सरकारी जमीन पर अतिक्रमण को इस दायरे में नहीं रखा जाएगा। यानी, सरकारी जमीन पर अवैध कब्जे को कभी भी कानूनी मान्यता नहीं मिल सकती है। लिमिटेश एक्ट 1963 के तहत निजी अचल संपत्ति पर लिमिटेशन (परिसीमन) की वैधानिक अवधि 12 साल, जबकि सरकारी अचल संपत्ति के मामले में 3० वर्ष है। यह मियाद कब्जे के दिन से शुरू होती है।

इसे भी पढ़ें :- ट्रेन के टॉयलेट में कांस्टेबल ने किया तिहाड़ की महिला कैदी से बलात्कार

सुप्रीम कोर्ट के जजों जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस एस अब्दुल नजीर और जस्टिस एमआर शाह की बेंच ने इस कानून के प्रावधानों की व्याख्या करते हुए कहा कि कानून उस व्यक्ति के साथ है जिसने अचल संपत्ति पर 12 वर्षों से अधिक से कब्जा कर रखा है। अगर 12 वर्ष बाद उसे वहां से हटाया गया तो उसके पास संपत्ति पर दोबारा अधिकार पाने के लिए कानून की शरण में जाने का अधिकार है। बेंच ने कहा, ‘हमारा फैसला है कि संपत्ति पर जिसका कब्जा है, उसे कोई दूसरा व्यक्ति बिना उचित कानूनी प्रक्रिया के वहां से हटा नहीं सकता है। अगर किसी ने 12 साल से अवैध कब्जा कर रखा है तो कानूनी मालिक के पास भी उसे हटाने का अधिकार भी नहीं रह जाएगा।

इसे भी पढ़ें :- बुजुर्ग के मुँह हाथों को कपडे से बान्ध कर की हत्या शहर मे फैली सनसनी, डॉग स्कॉट करते रहे हत्यारे की तलाश

ऐसी स्थिति में अवैध कब्जे वाले को ही कानूनी अधिकार, मालिकाना हक मिल जाएगा। हमारे विचार से इसका परिणाम यह होगा कि एक बार अधिकार (राइट), मालिकाना हक (टाइटल) या हिस्सा (इंट्रेस्ट) मिल जाने पर उसे वादी कानून के अनुच्छेद 65 के दायरे में तलवार की तरह इस्तेमाल कर सकता है, वहीं प्रतिवादी के लिए यह एक सुरक्षा कवच होगा। अगर किसी व्यक्ति ने कानून के तहत अवैध कब्जे को भी कानूनी कब्जे में तब्दील कर लिया तो जबर्दस्ती हटाए जाने पर वह कानून की मदद ले सकता है।

इसे भी पढ़ें :- फिरोजपुर जनता एक्सप्रेस में जीआरपी पुलिस ने पकड़ा मोबाईल चोर, देखें पूरी वीडियो खबर और सावधान रहे

फैसले में स्पष्ट किया गया है कि अगर किसी ने 12 वर्ष तक अवैध कब्जा जारी रखा और उसके बाद उसने कानून के तहत मालिकाना हक प्राप्त कर लिया तो उसे असली मालिक भी नहीं हटा सकता है। अगर उससे जबर्दस्ती कब्जा हटवाया गया तो वह असली मालिक के खिलाफ भी केस कर सकता है और उसे वापस पाने का दावा कर सकता है क्योंकि असली मालिक 12 वर्ष के बाद अपना मालिकाना हक खो चुका होता है।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *