कश्मीर में पाबंदियों पर सुप्रीम कोर्ट का हस्तक्षेप से इनकार, जम्‍मू-कश्‍मीर का मामला संवेदनशील

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

नई दिल्ली : जम्‍मू-कश्‍मीर से धारा 144 हटाने, वहां के हालात की समीक्षा के लिए न्‍यायिक आयोग गठित करने और उमर अब्‍दुल्‍ला-महबूबा मुफ्ती की गिरफ्तारी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने तत्‍काल सुनवाई से इनकार कर दिया है.

सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि हम मामले की सुनवाई दो हफ्ते बाद करेंगे और देखेंगे कि क्या होता है. कांग्रेस कार्यकर्ता तहसीन पूनावाला ने जम्‍मू-कश्‍मीर में सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी.

इसे भी पढ़ें :- सीएम मनोहर लाल खट्टर के बयान पर विवाद, कहा-अब हम भी शादी के लिए ला सकते हैं कश्मीरी लड़की

सुप्रीम कोर्ट ने आज जम्मू-कश्मीर में संचार सहित कई पाबंदियों को हटाने संबंधी एक याचिका पर तत्काल दिशानिर्देश देने से इंकार कर दिया. शीर्ष अदालत ने कहा कि सूबे की मौजूदा स्थिति बहुत ही संवेदनशील है और यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि वहां किसी की जान न जाए. सुप्रीम कोर्ट का यह भी कहना था कि सरकार को राज्य में हालात सामान्य करने के लिये समुचित समय दिया जाना चाहिए.

इसे भी पढ़ें :- अयोध्या भूमि विवाद : 16 जनवरी 1949 तक नमाज अदा की गयी, अंदर कोई मूर्ति नहीं

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा, न्यायमूर्ति एमआर शाह और न्यायमूर्ति अजय रस्तोगी की तीन सदस्यीय खंडपीठ आज कांग्रेस कार्यकर्ता तहसीन पूनावाला की याचिका पर सुनवाई कर रही थी. पूनावाला ने संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को रद्द किये जाने के बाद जम्मू-कश्मीर में कड़ी पाबंदियां लगाने के केंद्र के फैसले को चुनौती दी है.

इसे भी पढ़ें :- भोपाल स्मार्ट सिटी घोटाले में कलेक्टर छवि भारद्वाज, महापौर सहित कई के खिलाफ जांच शुरू

इस पर केंद्र ने शीर्ष अदालत को बताया कि जम्मू-कश्मीर की स्थिति की रोजाना समीक्षा की जा रही है. अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल के मुताबिक सरकार को यह सुनिश्चित करना है कि सूबे में कानून व्यवस्था बनी रहे. उन्होंने हिज्बुल कमांडर बुरहान वानी की मुठभेड़ में मौत के बाद कश्मीर में जुलाई 2016 में हुए विरोध प्रदर्शन का हवाला देते हुए कहा कि हालात सामान्य होने में कुछ दिन का समय लगेगा.

इसे भी पढ़ें :- पत्नी का कटा सिर लेकर सड़क पर घूमता रहा हैवान, यह रही रोंगटे खड़े करने वाली बड़ी वजह

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह जम्मू-कश्मीर में स्थिति सामान्य होने का इंतजार करेगा और मामले में दो सप्ताह बाद सुनवाई की जाएगी.  धारा 370 खत्म किए जाने के बाद से जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट और फोन सेवाओं पर रोक है. यातायात पर भी कई तरह के प्रतिबंध लगाए गए हैं. राज्य में सुरक्षा बलों की तादाद काफी बढ़ा दी गई है.


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *