दुनिया का सबसे अमीर शख्स ये था, अंबानी की दौलत से ज्यादा सोना एक दिन में करता था दान !

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

दुनिया के सबसे अमीर राजा के बारे में आज हम आपको अवगत करवाएंगे, जिसके उपहारों ने एक देश की अर्थव्यवस्था नष्ट कर दी थी। लेकिन उस शासक का खुद का देश अब आर्थिक संकट से लड़ रहा है। वर्तमान में दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति जेफ बेजोस की संपत्ति 9028 अरब रुपये से भी ज्यादा है, लेकिन वह इस राजा के आसपास भी नहीं है।

इसे भी पढ़ें :- 13 महीने के बाद बुराड़ी केस में हुआ बड़ा खुलासा, प्रियंका को लेकर सामने आई ये नई बात

हम बात आकर रहे है 14वीं सदी में माली देश के राजा रहे मनसा मूसा की। मनसा मूसा इतिहास के सबसे दानी शासकोंमें से एक थे। वह जहां जाते, वहां आम लोगों को इतना दान करते थे कि उस देश की अर्थव्यवस्था डगमगाने लगती थी।

Third party image reference

मनसा मूसा के राज्य में सोने और अन्य सामानों का आयात निर्यात करने वाले मुख्य व्यापारिक केंद्र थे, इस व्यापार से उन्हें काफी लाभ होता था , उस वक्त में इस राजा के पास पूरी दुनिया के सोने का लगभग आधा हिस्सा था। एक बार मूसा ने सहारा रेगिस्तान और मिस्र से होते हुए मक्का में हज यात्रा पर जाने का निर्णय लिया।

इसे भी पढ़ें :- पति ने अपनी पत्नी को बेहोशी की दवा खिलाकर अपने भाई और अपने दोस्त नौकर के साथ गलत काम करा कर पत्नी का वीडियो बना लिया

माली से हज के लिए निकलते समय उनके कारवां में 60,000 से अधिक लोग, हाथी, घोड़े, ऊंट व अन्य कई प्रकार के जानवर और भारी मात्रा में साजो-सामान समलित था। यात्रा के समय उन्होंने काहिरा में अपने लाव-लश्कर के साथ तीन माह का प्रवास किया था।

Third party image reference

इस बीच उन्होंने वहां के लोगों को उपहार में इतना सोना दे दिया कि मिस्र की अर्थव्यवस्था ही ख़त्म हो गई थी। मूसा के सोने के उपहारों के कारण पूरे 10 वर्ष तक मिस्र में सोने की कीमतें गिरी रही। तीर्थ यात्रा के चलते मूसा ने इतने स्वर्ण उपहार बांटे कि पूरे मध्य पूर्व (मिडिल ईस्ट) क्षेत्र को लगभग 100 अरब रुपये से ज्यादा का आर्थिक नुकसान झेलना पड़ा था।

इसे भी पढ़ें :- बीजेपी विधायक के बिगड़े बोल, कहा- अब कोई भी गोरी-गोरी कश्मीरी लड़कियों से कर सकता है शादी

जब वह हज यात्रा से वापसी कर रहे थे तो मिस्र से होकर गुजरे और देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए उन्होंने सोने को प्रचलन से बाहर करने का यत्न किया। इसके लिए उन्होंने सोने को ब्याज पर वापस लेना शुरू कर दिया था।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *