शासकीय भूमि को बेचने वाले कॉलोनाइजरों के विरूद्ध की जायेगी रासुका की कार्रवाई

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

कलेक्टर ने राजस्व प्रकरणों की समीक्षा के दौरान अधिकारियों को दिए निर्देश 

ग्वालियर. शासकीय भूमि पर अतिक्रमण कर उसे बेचने वाले कॉलोनाइजरों के विरूद्ध राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) की कार्रवाई की जायेगी। शासकीय भूमि पर अतिक्रमण करने वालों के विरूद्ध प्रशासन द्वारा सख्त कार्रवाई करने के निर्देश कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी ने दिए हैं। 

राजस्व प्रकरणों की समीक्षा बैठक शनिवार को कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक में राजस्व प्रकरणों की समीक्षा के साथ ही शासकीय भूमि पर कब्जा करने वालों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई के निर्देश सभी राजस्व अधिकारियों को दिए गए हैं। बैठक में अपर कलेक्टर श्री अनुप कुमार सिंह, एडीएम श्री टी एन सिंह, अपर कलेक्टर श्री किशोर कान्याल, अपर कलेक्टर श्री रिंकेश वैश्य, एसडीएम डबरा श्रीमती जयति सिंह सहित जिले के सभी अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, तहसीलदार, नायब तहसीलदार एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी ने सभी राजस्व अधिकारियों को निर्देशित किया है कि शासकीय भूमि पर अतिक्रमण करने वालों के विरूद्ध विशेष अभियान चलाकर कार्रवाई की जाए। शासकीय भूमि पर पक्के निर्माण कर निवास करने वालों को भी नोटिस जारी कर बेदखल की कार्रवाई की जाए। उन्होंने राजस्व अधिकारियों को यह भी निर्देशित किया है कि राजस्व न्यायालयों के माध्यम से पारित किए गए आदेशों का शतप्रतिशत अमल भी सुनिश्चित किया जाए।

कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी ने अपर कलेक्टर एवं अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को निर्देशित किया है कि वे अपने अधीनस्थ न्यायालयों का निरीक्षण कर राजस्व न्यायालयों द्वारा पारित आदेशों के अमल की भी समीक्षा करें। राजस्व न्यायालय द्वारा पारित आदेशों का अमल करने के साथ-साथ शासकीय दस्तावेजों में उसे अंकित करना भी सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने अतिक्रमण के मामलों में भी राजस्व अधिकारियों को मौके पर जाकर निरीक्षण करने और प्रभावी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी ने राजस्व वसूली की समीक्षा के दौरान लक्ष्य के अनुरूप वसूली न होने पर अप्रसन्नता व्यक्त की है। उन्होंने राजस्व अधिकारियों को राजस्व वसूली लक्ष्य के अनुरूप अभियान चलाकर करने के निर्देश दिए हैं। राजस्व वसूली में लापरवाही पाए जाने पर संबंधित राजस्व अधिकारी के विरूद्ध दण्डात्मक कार्रवाई की जायेगी। कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी ने सभी अनुविभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे पटवारी एवं सचिवों की संयुक्त बैठकें भी लें और ग्रामीण क्षेत्र में नामांकन, सीमांकन, बटवारा तथा अतिक्रमण के प्रकरणों की समीक्षा कर प्रभावी कार्रवाई सुनिश्चित करें।

राजस्व प्रकरणों की समीक्षा के दौरान सभी अनुविभागीय अधिकारियों को यह भी निर्देशित किया गया कि वे अपने क्षेत्र के प्रत्येक पटवारी की एक पंजी संधारित करें। इस पंजी में पटवारी के क्षेत्र के नामांकन, सीमांकन एवं अतिक्रमण के मामले अंकित किए जाएं। पंजी के आधार पर ही नियमित समीक्षा कर निराकरण सुनिश्चित किया जाए।

राजस्व प्रकरणों का निराकरण गुणवत्तापूर्ण हो

कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी ने राजस्व प्रकरणों की समीक्षा के दौरान सभी राजस्व अधिकारियों को निर्देशित किया है कि राजस्व प्रकरणों का निराकरण निर्धारित समय-सीमा में पूर्ण गुणवत्ता के साथ किया जाना चाहिए। निराकरण के साथ-साथ उसका जमीनी स्तर पर अमल भी सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

सीएम हैल्पलाइन के प्रकरणों को दें सर्वोच्च प्राथमिकता

कलेक्टर श्री अनुराग चौधरी ने बैठक में सीएम हैल्पलाइन के प्रकरणों की भी समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि सीएम हैल्पलाइन के तहत दर्ज प्रकरणों के निराकरण को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाए। प्राप्त शिकायतों का निराकरण तत्परता से संतोषप्रद होना चाहिए। सीएम हैल्पलाइन के तहत कोई भी शिकायत बिना अटेण्ड हुए अगले चरण पर नहीं जाना चाहिए। ऐसा पाए जाने पर संबंधित अधिकारी के विरूद्ध दण्डात्मक कार्रवाई की जायेगी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *