उन्हेल करनावद महिदपुर मार्ग पर प्रधानमंत्री सड़क प्रशासन की लापरवाही

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

ब्यूरो चीफ नागदा, जिला उज्जैन // विष्णु शर्मा 8305895567

उन्हेल महिदपुर करनावद उन्हेल मार्ग पर बनी पुलिया प्रधानमंत्री सड़क योजना के अंतर्गत प्रशासनिक अमले की लापरवाही के चलते आए दिन मार्ग बंद हो रहा है गंभीर नदी पर बन्नी रपट को निर्माण के दौरान इस पुलिया को शामिल नहीं किया गया था यहां पर पानी की निकासी के लिए जो पाइप लगे हैं कचरे और मलबे से पाइप जाम हो गए प्रशासन ने बारिश के पहले उसकी सफाई नहीं की थी और पहली बारिश में ही इस बात का खुलासा हो गया था

इसी लापरवाही के चलते आए दिन जब भी गंभीर डेम से थोड़ा सा भी पानी का सप्लाई छोड़ा जाता है तो उन्हेल इटावा डैम के ओवरफ्लो से पानी बढ़ते ही रपट पर पानी ऊपर बह निकलता है इससे यह मार्ग बंद हो जाता है पहले भी उज्जैन डैम से पानी छूटने पर अधिक दबाव होने पर ही मार्ग बंद होता था पर जब से यह सड़क लोक निर्माण विभाग के हाथ से एमपीआरटीसी के पास गई है तब से इस रपट की बारिश के पूर्व सफाई नहीं हो रही है इसी कारण थोड़े से पानी में यह मार्ग बंद हो जाता है जबकि इस मार्ग से करीब दो दर्जन गांवों का संपर्क बना हुआ है सुरक्षा की दृष्टि से जैसे ही पानी पुलिया के ऊपर आता है स्थानीय प्रशासन व पुलिस प्रशासन को पुलिया पर दोनों और सुरक्षा के इंतजाम के साथ पुलिस तैनात करनी पड़ती है क्योंकि मार्ग बंद होते ही दोनों और ग्रामीण जनता की भीड़ लग जाती है आए दिन मार्ग बंद होने से पूरे समय पुलिस को वहीं पर नजर रखना पड़ती है क्योंकि जरा सी चूक में जल्दबाजी के चक्कर में कोई यात्री जान ना गवा दे पहली बार इतनी बार मार्ग बंद हुआ है पहले भी अधिक बारिश हुई है पर इतनी बार मार्ग बंद नहीं हुआ है यह पाइपों के सफाई नहीं होने के कारण ही समस्या पैदा हुई

कई सालों से उठ रही है ब्रिज बनाने की मांग

उन्हेल से महिदपुर पहुंचने के लिए सबसे कम दूरी का मार्ग यही है जब पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू ने इसी मार्ग पर राज घटा पर ब्रिज का निर्माण किया था तब यहां पर भी ब्रिज बनाने की मांग उठी थी उसके बाद पूर्व सांसद चिंतामणि मालवीय और पूर्व विधायक सतीश मालवीय के कार्यकाल में भी इस मांग ने जोर पकड़ा था सेतु निगम से ब्रिज निर्माण की बात चली थी पर कुछ नहीं हो पाया और अब वर्तमान सांसद अनिल फिरोजिया व विधायक रामलाल मालवीय के समक्ष भी कई गांव के लोगों ने लिखित मांग की है


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *