कपल गरबे में हुए विवाद मैं हस्तक्षेप पुलिस को ही पड़ा भारी, चार पुलिसकर्मी हुये लाईन हाजिर

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

ब्यूरो चीफ नागदा, जिला उज्जैन // विष्णु शर्मा 8305895567

नागदा । नगर के एक गरबा पंडाल में शुक्रवार रात करीब 12:00 बजे हुए विवाद में पुलिस का हस्तक्षेप करना पुलिस को ही भारी पड़ गया। पुलिस ने गरबा पांडाल में विवाद का कारण बने युवकों पर व शहर में धार्मिक माहौल की फिजा बिगाड़ने वाले उपद्रवियों को जब खदेड़ना शुरू किया तो पुलिस ही दोषी हो गई और मनचले निर्दोष हो गए।

 वाह रे शहर की जनता

इस पूरे मामले में केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत का पोता विशाल गहलोत व भाजपा के पूर्व विधायक दिलीप सिंह शेखावत का निज सहायक लाल सिंह कुशवाह सहित कई अन्य लोग निर्दोष हो गए और पुलिस दोषी ।

आखिर क्यों ?

जबकि उप निरीक्षक अशोक दुबे को भी चोट आई मामले में भाजपाइयों ने थाने का घेराव किया वही मंत्री जी का दबाव और अपने ही डिपार्टमेंट के पुलिसकर्मियो पर कार्यवाही करते हुए 4 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया जाता है और भाजपाई खुश हो जाते हैं ।

वीडियो : इनका कहना है – दिलिप सिंह गुर्जर -विधायक

नारी सुरक्षा ,बेटी बचाओ जैसे मुद्दों पर बात करने वाली भाजपा मनचलों के पक्ष में खड़ी दिखती है वही नारी सुरक्षा की बात करने वाली पार्टी जब इन मनचलो का साथ देती है तो यह बात हास्यास्पद लगती है।

दरअसल शुक्रवार देर रात एक गरबा पांडाल में कुछ मनचलों ने महिला सहित युवती से छेड़छाड़ की थी सूचना मिलने पर पुलिस गरबा पांडाल में पहुंची लेकिन मनचले भाग निकले ।

इस पूरे घटनाक्रम में केंद्रीय मंत्री गहलोत का पोता विशाल दोस्तों के साथ चाय पी रहा था दूसरे स्थल पर पूर्व विधायक दिलीप सिंह शेखावत का निजी सहायक कुशवाहा मित्र का इंतजार कर रहा था ।

वीडियो : इनका कहना है – श्याम चंद शर्मा -थाना प्रभारी- मंडी थाना

पुलिस की कार्रवाई से भाजपाइयों ने थाने का घेराव किया जिस पर अधिकारियों ने अपने ही विभाग के पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई कर दी।

अब सोचने वाली बात यह है कि जगह जगह चल रहे गरबा पांडाल में फिर पुलिस के जवान क्यों लगा रखे हैं पेट्रोलिंग क्यों करवाई जाती है यदि पुलिसकर्मी कार्यवाही करते है तो यह राज नेता से जुड़े लोग थाना घेरते हैं ओर पुलिस पर दोष लगाते है।

क्या पुलिस कर्मियों का मनोबल उनका खुद का ही विभाग नहीं तोड़ रहा ।

कभी यह सोचा है कि आपके त्योहारों पर पुलिस अपना परिवार और अपनी सभी खुशियो का त्याग कर हमारी ओर आपकी सुरक्षा व्यवस्था में निस्वार्थ दिन रात लगी रहती है क्या इस तरह की पुलिस पर कार्रवाई उचित है।

वीडियो : इनका कहना है – अजय शर्मा – मंडल अध्यक्ष बिरला ग्राम


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *