लकवा की गंभीर बीमारी से आयुर्वेद के पंचकर्म से स्वस्थ हुए राजेश गुप्ता

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

जिला ब्यूरो चीफ रायगढ़  // उत्सव वैश्य : 9827482822 

जिला स्तरीय नि:शुल्क आयुष स्वास्थ्य मेला आयोजित

रायगढ़, जिला स्तरीय नि:शुल्क आयुष स्वास्थ्य मेला में आज केवड़ाबाड़ी बस स्टैण्ड के श्री राजेश गुप्ता अपनी पत्नी के साथ पहुंचे थे। उनकी पत्नी श्रीमती पुष्पा गुप्ता ने बताया कि उनके पति श्री राजेश गुप्ता लकवा (पैरालाइसिस)एवं स्टीमिक स्ट्रा की बीमारी से ग्रसित थे और वे बीमारी की वजह से बिस्तर पर थे।

जिनका इलाज शासकीय आयुर्वेदिक जिला चिकित्सालय में डॉ.नीरज मिश्रा एवं उनकी टीम के द्वारा किया गया। उन्होंने बताया कि पंचकर्म की विधाओं का उपयोग करते हुए स्र्वांग स्नेहन, स्र्वांग स्वेदन, शिरोधारा, नस्य कर्म, अनुवाशन बस्ति के द्वारा इनका इलाज किया गया। उन्होंने कहा कि अब इलाज के बेहतरीन परिणाम सामने आये और वे स्वयं अपने बलबूते पर चल रहे है।

इसे भी पढ़ें :- रेत का अवैध उत्खनन रोकने एसडीएम गोरखपुर ने बंद कराया रास्ता

उल्लेखनीय है कि पंचकर्म में वमन, विरेचन, नस्य बस्ति, रक्तमोक्षन के माध्यम से शरीर का शुद्धिकरण किया जाता है इसमें स्नेहन अर्थात तेल की मालिश, संवेदन अर्थात काढ़े का भाप देकर चिकित्सा की जाती है।

इसे भी पढ़ें :- एनसीएल की 600 बच्चों को स्कूल यूनिफॉर्म की सौगात, खिरवा ग्राम-पंचायत के 04 शासकीय विद्यालयों के छात्र-छात्राएं हुए लाभान्वित

यह बीमारी गंभीर बीमारियों के अलावा खांसी, श्वास, वात, पित्त एवं अन्य बीमारियों में कारगर होती है। यह स्वस्थ व्यक्ति के लिए भी प्रभावशील है। वाष्प संवेदन, ताप संवेदन एवं शिरोधारा के माध्यम से भी इलाज किया जाता है। शिरोधारा चिकित्सा तनाव एवं निराशा के मरीजों के लिए अत्यंत उपयोगी है।

इसे भी पढ़ें :- नेशनल लोक अदालत 14 दिसम्बर को, बिजली चोरी एवं अनियमितताओं के प्रकरण में होंगे समझौते

इसे भी पढ़ें :- यो यो हनी सिंह ने अबू धाबी में अपने धुंआधार परफॉर्मेंस के साथ जीता सबका दिल


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *