सोल्डर डिस्टोनिया की बीमारी से निर्जीव हो गए हाथ में फिर से लौट रही जान

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

जिला ब्यूरो चीफ रायगढ़  // उत्सव वैश्य : 9827482822 

जतन केन्द्र में फिजियोथैरेपी से स्वस्थ हो रही है जानवी

रायगढ़, जतन जिला शीघ्र हस्तक्षेप केन्द्र रायगढ़ में भर्ती नन्ही बच्ची जानवी विश्वकर्मा के हाथ में सोल्डर डिस्टोनिया की बीमारी से निर्जीव हो गए हाथों में फिजियोथैरपी से जान लौट रही है।

सारंगढ़ के श्री जगेश्वर विश्वकर्मा अपनी दो माह की बच्ची के बांये हाथ में लकवा की बीमारी से परेशान थे। बच्ची महज दो दिन की थी और अपना बांया हाथ नहीं उठा पा रही थी।

इसे भी पढ़ें :- जामिया हमले की सीसीटीवी में दिल्ली पुलिस ने लाइब्रेरी में घुस के पढ़ रहे बच्चों को लाठियों से मारा, पुलिस का झूठ पकड़ाया, वीडियो वायरल

 डॉक्टरों को दिखाने पर कहा गया कि यह बीमारी केवल फिजियोथैरेपी से ठीक होने की संभावना है। श्री जगेश्वर विश्वकर्मा अपनी बच्ची को लेकर जतन केन्द्र आए जहां फिजियोथैरेपिस्ट डॉ.सिद्धार्थ सिन्हा (न्यूरो फिजियोथैरेपिस्ट)को जांच के उपरांत सोल्डर डिस्टोनिया बीमारी के लिए दो महीने फिजियोथैरेपी की सलाह दी।

इसे भी पढ़ें :- युवती के साथ अय्याशी कर रहे थाना प्रभारी पर अपहरण और दुष्कर्म का मामला दर्ज, भेजा जेल

बच्ची के पिता श्री विश्वकर्मा ने जतन केन्द्र के निकट अपने रहने की व्यवस्था की और लगातार बच्ची फिजियोथैरेपी ले रही है।  एक माह की फिजियोथैरेपी में जानवी अपने निर्जीव हो गए हाथ को हिला पा रही है एवं खुद से हाथों को उठा पा रही है। शासन की योजनान्तर्गत जानवी विश्वकर्मा की हालत में दिन ब दिन सुधार आ रहा है।

इसे भी पढ़ें :- NHM घोटाला : 20 लाख रुपये का #घोटाला करने वाली रीता बहरानी जांच में दोषी, फ़ाइल ठंडे बस्ते में

बच्ची के पिता श्री जगेश्वर विश्वकर्मा ने कहा जतन केन्द्र ऐसी बीमारी से ग्रसित बच्चों के लिए एक विशेष केन्द्र है, जाहं ऐसी चिकित्सा सुविधा से उनकी बच्ची में तेजी में सुधार आ रही है।

इसे भी पढ़ें :- SC-ST एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, अब सिर्फ शिकायत के आधार पर ही बिना किसी जांच के होगी गिरफ्तारी


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *