आईपीएस कॉन्क्लेव के दौरान भोपाल के बड़े तालाब में नाव पलटी, डीजीपी की पत्नी समेत कई अफसर भी थे सवार

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

  • डीजीपी की पत्नी समेत कई अफसर भी थे सवार
  • बाल-बाल बची जान

भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में आज बड़ा हादसा होते-होते बचा. यहां बड़े तालाब में एक नाव पलट गई. नाव में डीजीपी वीके सिंह की पत्नी सहित आईपीएस ऑफिसर्स कॉन्क्लेव  में शामिल होने आए पुलिस अफसर और उनके परिवार के लोग सवार थे. लेकिन मौके पर तैनात गार्ड्स की सतर्कता के कारण कोई हताहत नहीं हुआ. गार्ड्स ने तत्काल सबको पानी से निकाल लिया.

जो बोट पलटी उसमें डीजीपी वीके सिंह की पत्नी तुहीन सिंह, आईपीएस अफसर राजेश चावला और उनकी पत्नी सुनीता चावला, एडीजी विजय कटारिया के बेटे दीपांशु कटारिया, आईपीएस अफसर अरजरिया का बेटा अपूर्व अरजरिया, पुरुषोत्तम शर्मा की पत्नी प्रिया शर्मा सहित कुछ अन्य लोग सवार थे.

सैर-सपाटे पर निकले थे सभी लोग

भोपाल में IPS ऑफिसर्स कॉन्क्लेव चल रहा है. दो दिन की इस मीट का गुरुवार को आखिरी दिन है. आज पुलिस अफसर और उनके परिवार फन एक्टिविटी और सैर-सपाटे पर निकले थे. बड़े तालाब में वॉटर स्पोर्ट्स का भी कार्यक्रम था. सभी लोग मौज-मस्ती में थे. डीजीपी और उनकी पत्नी सहित अन्य आईपीएस अफसर और उनके परिवार बोटिंग का आनंद ले रहे थे. उसी दौरान एक नाव पलट गई. नाव में पुलिस अफसर और उनके परिवार सवार थे. सभी लोग पानी में गिर गए. मौके पर गार्ड्स भी तैनात थे. उन्होंने तत्काल सबको पानी से निकाल कर जान बचा ली.

IPS कॉन्क्लेव में प्रदेशभर के ऑफिसर्स शामिल

बुधवार को भोपाल में दो दिन का ये IPS ऑफिसर्स कॉन्क्लेव शुरू हुआ था. सीएम कमलनाथ ने इसका उद्घाटन किया था. कॉन्क्लेव में शामिल होने प्रदेशभर के आईपीएस अफसर और उनके परिवार भोपाल आए हैं. बुधवार को उद्घाटन सत्र के बाद डीजीपी सहित अफसरों ने क्रिकेट मैच खेला था. उसके बाद संगीत संध्या में गीत-संगीत हुआ था. अफसरों और उनकी पत्नियों ने भी परफॉर्म किया था.

सितंबर में भी हुआ था हादसा

इससे पहले भोपाल के छोटे तालाब में सितंबर में नाव हादसा हो चुका है. खटलापुरा घाट पर अनंत चतुर्दशी के दिन गणेश प्रतिमा के विसर्जन के दौरान नाव पलट गई थी. उसमें सवार 11 युवकों की मौत हो गई थी. सभी प्रतिमा विसर्जन के लिए गए थे. दो नाव को जोड़कर उसमें गणेश की विशाल प्रतिमा रखी गई थी और क्षमता से ज़्यादा लड़के उसमें सवार थे. विसर्जन के दौरान नावों का संतुलन बिगड़ा और 11 लड़के पानी में डूब गए थे.


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *