शर्मनाक : कोरोना ड्यूटी में ब्रेन हेमरेज डॉक्टर वंदना तिवारी का सरकारी चिकित्सालय में डॉक्टरों ने इलाज ही नहीं किया 24 घंटे लावारिस पड़े रहने के बाद इन परिस्थितियों में दम तोड़ा

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

तस्वीर में दिख रही महिला डॉक्टर वंदना तिवारी हैं. कल डॉक्टर वंदना का निधन हो गया.

ग्वालियर । कोरोना ड्यूटी के चलते 31 मार्च को डॉक्टर वंदना तिवारी को ब्रेन हेमरेज हुआ था। शर्मनाक यह है कि जयारोग्य चिकित्सालय में डॉक्टरों ने उनका इलाज ही नहीं किया था। 24 घंटे तक लावारिस पड़े रहने के बाद उनके पति उन्हें एक प्राइवेट अस्पताल में ले गए थे। मेडिकल कॉलेज, शिवपुरी कलेक्टर, ग्वालियर कमिश्नर से लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तक किसी ने वंदना की मदद नहीं की।

ब्रेन हेमरेज के बावजूद ग्वालियर में डॉक्टर देखने तक नहीं आए.

शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में फार्मासिस्ट पद पर पदस्थ वंदना तिवारी को कोरोना संक्रमण के खिलाफ काम करने वाली टीम में तैनात किया गया था। जहां 31 मार्च को ऑन ड्यूटी अचानक तबीयत खराब हो गई। वहां से उन्हें जिला चिकित्सालय लाया गया। जहां डॉक्टरो ने वंदना तिवारी को ग्वालियर के जयरोग्य चिकित्सालय में रैफर कर दिया। वहां 24 घंटे तक एक भी डॉक्टर उन्हे देखने तक के लिए नहीं आया। प्राथमिक उपचार तक शुरू नहीं किया गया। डॉ वंदना तिवारी लावारिस पड़ी रही, तड़पती रही।

वंदना के परिजनों ने जयरोग्य के अस्पताल प्रबंधन का यह रवैया देखा तो वंदना तिवारी को ग्वालियर के बिरला हॉस्पिटल में 1 अप्रैल को भर्ती कराया गया। वहां डॉक्टर अभिषेक चौहान ने इलाज शुरू किया एमआरआई कराने के बाद बताया कि वंदना को ब्रेन हेमरेज हुआ है। तत्काल आपरेशन करना होगा। बिरला हॉस्पिटल के डॉक्टरो ने वंदना के ब्रेन का आपरेशन किया गया, लेकिन वह कोमा में चली गई थी।

वंदना के पति का आरोप है कि आन ड्यूटी उसकी तबीयत खराब हुई थी।

डॉ वंदना के विभाग ने उनकी कोई मदद नहीं की। शिवपुरी कलेक्टर ने हाल चाल सब नहीं जाना। शिवपुरी मेडिकल कॉलेज की डीन डॉ. इला गुजरिया सिर्फ मदद करने का आश्वासन देती रही लेकिन कोई मदद नहीं की। ग्वालियर में डॉक्टरों ने इलाज नहीं किया। ग्वालियर कलेक्टर और ग्वालियर कमिश्नर ने कोई मदद नहीं की। इस मामले को भोपाल समाचार ने भी उठाया था। कथित संवेदनशील मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इस पर ध्यान नहीं दिया। अंततः वंदना तिवारी ने दम तोड़ दिया।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!