प्रवासी मजदूरों की अनिवार्य रूप से हेल्थ स्क्रीनिंग करें

Spread the love

 ANI  NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

भोपाल // विनय जी. डेविड 9893221036

भोपाल : मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि विभिन्न प्रदेशों से मध्यप्रदेश लौटने वाले प्रवासी मजदूरों की सीमा पर हेल्थ स्क्रीनिंग अनिवार्य रूप से की जाये। साथ ही अन्य प्रदेशों के मध्यप्रदेश में फँसे हुए मजदूरों को सीमा तक छोड़ने के लिये वाहनों की व्यवस्था सुचारु रहे।

आने एवं जाने वाले सभी मजदूरों के लिये भोजन, चाय-नाश्ते आदि की व्यवस्थाएँ कलेक्टर्स अपने-अपने जिलों में सुनिश्चित करें। जो मजदूर ट्रक आदि वाहनों में ओव्हरलोड होकर जाते दिखें, उन्हें उतार कर पृथक वाहन से भिजवाने की व्यवस्था की जाये।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा कर रहे थे। मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, डीजीपी श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव श्री मोहम्मद सुलेमान आदि उपस्थित थे।

पन्ना जिला संक्रमण मुक्त

पन्ना जिले की समीक्षा के दौरान बताया गया कि जिले में एक कोरोना का मरीज था, जो मुम्बई से आया था। वह आज स्वस्थ होकर घर चला गया है। अब पन्ना जिला संक्रमण मुक्त है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि सभी सावधानियाँ रखी जायें, जिससे जिला पुन: संक्रमित न हो।

अन्य प्रदेशों के प्रवासी मजदूरों को भी रोजगार दें

अपर मुख्य सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर मनरेगा के अंतर्गत 20 लाख मजदूरों को कार्य दिया गया है। साथ ही उन्हें तुरंत भुगतान भी किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि अन्य प्रदेशों के मध्यप्रदेश में प्रवासी मजदूर यदि काम चाहें, तो उनका भी जॉब-कार्ड बनवाकर उन्हें कार्य दिया जाये। इस बार बरसात में भी मनरेगा के अंतर्गत कुछ कार्य जारी रखे जा सकते हैं, तदनुरूप व्यवस्था कर लें।

नि:शुल्क राशन संबंधी व्यवस्था करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की घोषणा अनुसार सभी प्रदेशों के प्रवासी मजदूरों को 2 माह का नि:शुल्क राशन दिया जाना है। अत: इस संबंध में सभी जिले आवश्यक व्यवस्थाएँ करें। मुख्य सचिव श्री बैंस ने निर्देश दिये कि सभी जिले ऐसे हितग्राहियों की सूचियाँ तैयार कर लें।

प्रदेश में कोरोना के रिकार्ड टैस्ट

अपर मुख्य सचिव, स्वास्थ्य श्री सुलेमान ने बताया कि गत दिवस प्रदेश में कोरोना के रिकार्ड 5,828 टैस्ट किये गये। इनमें से 3,924 टेस्ट प्रदेश की 14 टैस्ट लैबों में और 1904 टेस्ट राज्य से बाहर की लैब में किये गये। उन्होंने बताया कि प्रदेश में कोरोना टैस्टिंग की दो मशीनें एक इंदौर तथा एक भोपाल में आ गई हैं। इनके चलते अब हमें राज्य से बाहर टेस्ट करवाने की आवश्यकता नहीं होगी। उन्होंने कहा कि कोरोना संबंधी सर्वेलेंस के लिये कांटेक्ट ट्रेसिंग एप अत्यंत उपयोगी है। इसका उपयोग शहरी क्षेत्रों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी किया जाये।

3 लाख 84 हजार प्रवासी मजदूर प्रदेश लौटे

बताया गया कि प्रदेश में अभी तक 3 लाख 84 हजार प्रवासी मजदूर दूसरे राज्यों से वापस आ गये हैं। इनको लेकर 85 ट्रेनें आ गई हैं तथा 8 ट्रेनें आज आने वाली हैं। आज चैन्नई से ट्रेन मध्यप्रदेश के लिये रवाना होगी। लगभग एक लाख मध्यप्रदेश के मजदूर अभी अन्य राज्यों में फँसे हुए हैं, जिन्हें ट्रेन एवं बस से लाने की व्यवस्था की जा रही है।

3 लाख 4 हजार ई-पास जारी

प्रमुख सचिव श्री संजय दुबे ने बताया कि विभिन्न स्थानों पर आने-जाने की अनुमति संबंधित 3 लाख 4 हजार 544 ई-पास अभी तक जारी किये गये हैं। अब ई-पास के लिये आने वाले कॉल्स की संख्या अत्यंत कम हो गई है। मुख्य सचिव श्री बैंस ने निर्देश दिये कि जिन व्यक्तियों को ई-पास जारी किये गये हैं, उन्हें फोन कर उनके स्वास्थ्य की स्थिति की जानकारी ली जाये।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!