भारतीय रेल्वे ने 1000 साल आगे का टिकिट दे दिया लगा जुर्माना

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ www.aninewsindia.com

भारतीय रेलवे की एक बड़ी चूक का मामला सामने आया है. सहारनपुर में रेलवे ने रिजर्वेशन काउंटर से एक यात्री को एक हजार साल आगे का टिकट दे दिया. इतना ही नहीं, चेकिंग के दौरान फर्जी टिकट बताते हुए उसे टीटीई ने बीच रास्ते में ही ट्रेन से उतार दिया. मामला सहारनपुर के प्रद्मुम्न नगर निवासी रिटायर्ड प्रोफेसर डॉ. विष्णुकांत शुक्ला का है. उन्हें नवंबर 2013 में किसी काम से जौनपुर जाना था.

विष्णु कांत शुक्ला ने नवंबर 2013 में रिजर्वेशन काउंटर से हिमगिरी एक्सप्रेस का एसी थ्री टियर का टिकट बुक कराया था, लेकिन लक्सर में चेकिंग के दौरान स्टाफ ने उनके टिकट पर 19 नवंबर 3013 देखकर उसे फर्जी करार दिया. फर्जी टिकट के कारण स्टाफ ने मुरादाबाद रेलवे स्टेशन पर प्रोफेसर को नीचे उतार दिया. उन्होंने इसकी शिकायत रेलवे में की गई, लेकिन उनकी कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई.

मामले को लेकर उन्होंने उत्तर रेलवे जीएम, डीआरएम अंबाला और स्टेशन अधीक्षक को पार्टी बनाते हुए उपभोक्ता फोरम में रेलवे को चुनौती दे डाली. 5 साल के संघर्ष के बाद रेलवे को मुंह की खानी पड़ी और उपभोक्ता फोरम ने रेलवे के खिलाफ फैसला सुनाते हुए यात्री को ब्याज सहित टिकट के पैसे लौटाने का आदेश दिया. रेलवे को 10 हज़ार बतौर मानसिक क्षति और तीन हजार वाद-व्यय देने का आदेश भी दिया गया है. पक्ष में फैसला आने पर प्रोफेसर और उनके वकील ने कहा कि अगर आप अपनी जगह सही हैं तो न्याय पाने में कहीं कोई समस्या नहीं आती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *