कलेक्टर आशीष सिंह से किसानों एवं मजदुरों की मांगों पर चर्चा: विधायक गुर्जर

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

जिला ब्यूरो चीफ उज्जैन, नागदा // विष्णु शर्मा : 8305895567

फसल बीमा तत्काल स्वीकृत करने की मांग

 

नागदा जं.। उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह को नागदा-खाचरौद क्षेत्र में वर्ष 2018-19 में अत्यधिक ठण्ड पाले से खराब हुई चना की फसल बीमा किसानों को नहीं मिलने तथा अत्याधिक बारिश से बर्बाद हुई सोयाबीन की फसलों का 25 प्रतिशत मुआवजा भी सैकडों कृषकों को नहीं मिल पाया है तथा समर्थन मुल्य में बेचे गये गेहूॅं की राशी किसानों के खाते में नहीं आयी है इस बात से विधायक गुर्जर ने चर्चा कर तत्काल स्वीकृत करने की मांग की है।

श्री गुर्जर ने अवगत कराते हुए कहा कि कुछ दिनों पूर्व वर्ष 2018-19 में पाले से खराब हुई गेहूॅं की फसलों का बीमा क्लेम पास हुआ था जिसके उपरांत मेरे पास ग्रामीण क्षैत्रों के किसानों द्वारा लगातार शिकायत की जा रही है कि उन्हें फसल बीमा राशी का लाभ नहीं मिला है उनके नाम छुट गये है व भुमि के मान से काटी गई बीमा प्रीमियम राशी के मान से गेहॅं की बीमा राशी प्रदान नहीं की गई है  क्षैत्र के सैकडों किसान बीमा राशी प्राप्त करने से वंचित रह गये है। ऐसे किसान जिनकी प्रीमियम के मान से उन्हें बीमा प्राप्त नहीं हुआ है को तत्काल जांच कराकर पात्र किसानों को अतिशीघ्र बीमा स्वीकृत कर लाभ दिलाया जायें।

श्री गुर्जर ने आगे बताया कि गेहूॅं की जारी बीमा क्लेम सूची में भैंसोला, बरथुन, राजपुर रायती, अर्जला, परमारखेडी, किलोडिया, भगतपुरी, खामरिया, नायन, उंचाहेडा, कलसी, अलसी, नागदा, पाडल्या कलां, रूपेटा आदि गांव ऐसे है जिनके किसानों के नाम, रकबा, प्रीमियम तथा अन्य जानकारी उपलब्ध है लेकिन उनको कितना बीमा क्लेम स्वीकृत हुआ है वहां काॅलम निरंक है तथा राशी दर्शायी नहीं गई है।

श्री गुर्जर ने कलेक्टर महोदय का ध्यान 2019 में अत्याधिक बारिश से खराब हुई सोयाबीन की फसलों की 25 प्रतिशत मुआवजा राशी प्रदान नहीं करने की ओर आकर्षित किया है साथ ही मांग की शीघ्र ही शेष कृषकों के खातों में मुआवजा राशी प्रदान करने के आदेश प्रदान करें।

कलेक्टर महोदय द्वारा कृषकों को हो रही समस्याओं का शीघ्र निराकरण करने का आश्वासन दिया है।

3500 ठेका श्रमिकों को रोटेशन पद्धति के आधार पर काम दिया जाये: विधायक गुर्जर

लेबर एक्ट का पालन नहीं किये जाने के कारण कोरोना महामारी के चलते उद्योगों में स्थाई श्रमिकों से उत्पादन प्रक्रिया का काम लिया जा रहा है वहीं लगभग 3500 ठेका श्रमिक काम पर नहीं बुलाये जाने के कारण आर्थिक परेशानियों के दौर से गुजर रहे है जबकि स्थाई श्रमिकों से ठेका श्रमिकों का काम भी लिया जा रहा है जो कि श्रम कानूनों का उल्लंघन है। श्रमिकों की इस समस्या का कलेक्टर महोदय की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए विधायक श्री गुर्जर ने शीघ्र ही ठेका श्रमिकों को भी काम पर बुलाये जाने की मांग की है।

श्री गुर्जर ने यह सुझाव भी दिया है कि रोटेशन पद्धति के आधार पर 18 हाजरी प्रति माह के आधार से ठेका श्रमिकों को कार्य पर बुलाया जाना चाहिए जिससे की वे आपने परिवार का भरण पोषण कर सके वहीं 23 मार्च को लाॅकडाउन घोषित होने के पश्चात जिन ठेका श्रमिकों ने किसी कारणवश हाजरी नहीं की है उन्हें भी वेतन नहीं मिल पाया है। कलेक्टर महोदय द्वारा विधायक गुर्जर को आश्वास्त किया है कि अगले सप्ताह तक ठेका श्रमिकों व अधिकारियों को बैठाकर उक्त समस्या का निराकरण कर दिया जायेगा।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!