कोरोना कोविद 19 संक्रमण रोकने में छत्तीसगढ़ सरकार असफल

Spread the love

जिला ब्यूरो चीफ रायगढ़ // उत्सव वैश्य : 9827482822

कई जिलो में 100 बेड के कोरोना अस्पताल भी नही

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की भूपेश बघेल की सरकार है पिछले महीने एक अखबार में बहुत बड़ी हेडिंग आयी थी कि कोरोना का संक्रमण रोकने वाले महारथी जिसमे भूपेश सरकार के 13 मंत्रियो की फोटो भी थी । पर अब कोरोना कोविद 19 का संक्रमण इस तरह फैल गया है कि शायद ही कोई मोहल्ला या कालोनी इससे अछूती होगी, बात मोहल्ला या कालोनी की नही वरन हर गली में कोरोना कोविद 19 से संक्रमित कोई न कोई मिल ही जायेगा । ऐसे में संक्रमण रोकने के लिए भूपेश बघेल सरकार कोई निर्णय नही ले पा रही है ।अब तक छत्तीसगढ़ में कोरोना कोविद 19 से 119 लोग जान गंवा चुके है और डेथ एसोसिएटेड को-मोरबिदिति से 232 लोग जान गंवा चुके है डेथ एसोसिएटेड को-मोरबिदिति का मतलब ये है कि अगर कोई मरीज किसी  बीमारी से पहले से पीड़ित है और वो कोरोना कोविद 19 से संक्रमित हो जाये तथा इलाज करवाते वक्त उसकी मृत्यु हो जाये तो उसे डेथ एसोसिएटेट मोरबीडीटी कहा जाता है ।  अभी तक सभी जिलों में 100 बेड का अस्पताल भी नही है।  सभी जिला में पर्याप्त मात्रा में पीपीई किट और वेंटिलेटर की व्यवस्था भी नही है । अप्रैल महीने में जितने बेड की व्यवस्था थी आज भी उतने ही बेड के अस्पताल है सरकार बेड को बढ़ाने का प्रयास भी नही कर रही। अभी तक सभी जिले में कम से 200 बेड का कोरोना अस्पताल बन जाना चाहिए व सभी जिले में कोरोना टेस्ट की सुविधा होना चाहिए पर वो भी नहीं है । ऐसे में गरीब परिवार कैसे इलाज। करा सकते है,  जहाँ एक तरफ प्राइवेट अस्पताल की फीस एक दिन में 15000 से 20000 तक है । सरकार को प्राइवेट अस्पतालो की फीस पर नियंत्रण लगाना चाहिये और सरकारी अस्पतालो में बेहतर इलाज का प्रबंध करना चाहिए ।
एक छोटा सा राज्य जिसकी जनसंख्या लगभग दो करोड़ है उस राज्य में 41806 लोग कोरोना से संक्रमित हो गए है और 21000 एक्टिव केस है । ऐसी परिस्थिति में सरकार को कोई ठोस कदम उठाना चाहिए और टोटल लॉकडाउन का प्रावधान करना चाहिए


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!