नगर पालिका द्वारा किए जा रहे सीसी रोड़ के निर्माण कार्य- रहवासियों में असंतोष

Spread the love

http://aninewsindia.com

जिला ब्यूरो चीफ उज्जैन // विष्णु शर्मा : 8305895567

मेहतवास की वर्धमान नगर गली नंबर 3 का है मामला

नागदा – नगर पालिका परिषद नागदा के वार्ड क्रमांक 34 में सालों से सीसी रोड बनने कि बाट जोह रहे रहवासियों ने नगर पालिका की जेसीबी चलने से घरों के आगे बने ओटलों को तोड़े जाने पर आपत्ति दर्ज की। फिर भी किसी की एक ना चली और नगर पालिका की जेसीबी ने अतिक्रमण हटाते हुए सीसी रोड का कार्य प्रारंभ कर दिया।
जिसे देखते हुवे वार्ड के ही रहवासी फतेह सिंह त्यागी ओर अन्य रहवासियों जो सत्य साईं पब्लिक स्कूल के पीछे वाली गली मेहत्वास के वर्धमान नगर रोड में निवासरत है उन्होंने अपने आने जाने के रास्ते को लेकर श्री अनुविभागीय अधिकारी एवं मुख्य नगर पालिका अधिकारी को आवेदन दे कर आवागमन के लिए रास्ते की मांग की। जिस पर रहवासियों में थोड़ा बहुत विवाद भी हुआ जो आपस में ही निपटा लिया गया। श्री त्यागी के आवेदन देने के कई दिनों बाद भी जब कोई कार्यवाही नहीं हुई तो वार्ड के पार्षद महेंद्र यादव ने भी सक्रियता दिखाते हुवे रहवासियों की समस्या से अधिकारियों को अवगत कराया फिर भी रास्ते को लेकर चल रहा विवाद जस का तस ही है जिसे देखते हुवे मुख्य नगर पालिका अधिकारी श्री असफाक खान नोडल अधिकारी बसंत रघुवंशी जी भी मौके पर आए किन्तु समस्या जैसी थी वैसी की वैसी ही रही।
रहवासियों में दोबारा विवाद की स्थिति निर्मित ना हो इसे दिखते हुवे कई बार अधिकारियों को इस विषय की जानकारी दी गई ओर नतीजा कुछ नहीं निकला।

सोशलिस्ट पार्टी इंडिया मध्यप्रदेश के जिला अध्यक्ष कमलेश परमार ने मुख्य नगर पालिका अधिकारी के मौके पर पहुंचने के बाद भी स्थिति को देखते हुवे श्रीमान तहसीलदार महोदय राजेन्द्र गुहा जी को ज्ञापन के माध्यम से शिकायत दर्ज करते हुवे कार्यवाही की मांग की गई। जिस पर पटवारी किशन लाल परमार ओर कोटवार राधेश्याम बोडाना मौके पर पहुंचे जिन्होंने विवाद वाली जगह का मौका मुआयना करने के बाद आवेदक एवं अनावेदक के सामने सभी के मकान की रजिस्ट्रियों का अवलोकन करने के बाद पाया की जिस रास्ते के लिए श्री त्यागी ओर अन्य रहवासी प्रयासरत है वह सात फीट भूमि अतिरिक्त निकाल रही है जिस पर श्री राम नयन यादव ने बागर लगा कर पेड़ पोधे लगा रखे है। पटवारी परमार ने नपती कर राम नयन यादव की रजिस्ट्री को देखने के बाद राजस्व विभाग में नाम दर्ज नहीं होना बताया जो राजस्व विभाग की दृष्टि में अवैध है।
पटवारी परमार ने मौका मुआयना करने के बाद मौके पर ही आवेदक एवं अनावेदक के सामने पंचनामा बना कर सभी को पढ़ कर सुनाया गया जिसके बाद रहवासियों के हस्ताक्षर के साथ ही शिकायतकर्ता कमलेश परमार एवं अनावेदक राम नयन यादव जी से साइन करने का कहा गया परन्तु उन्होंने हस्ताक्षर करने से मना कर दिया।
पटवारी श्री परमार ने अपनी रिपोर्ट तहसीलदार महोदय के समक्ष पेश की है ।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!