संबल योजना में छूटे हुए विधानसभा के 17 हजार परिवारो का पुनः सर्वे कर नाम जोड़े जायेंगे – शेखावत

Spread the love

http://aninewsindia.com

जिला ब्यूरो चीफ उज्जैन // विष्णु शर्मा : 8305895567

संबल योजना से 17 हजार परिवार वंचित

 – पूर्व विधायक दिलीप सिंह शेखावत ने बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री श्री कमलनाथजी की कांग्रेस सरकार के समय संबल योजना में सर्वे के नाम पर भेदभाव तरीके से पूरे मध्यप्रदेश में लाखो नाम काट दिये गये थे।

 क्षेत्र नागदा-खाचरौद के 88476 परिवारों में से 17 हजार परिवारों का सर्वे करने से ही छोड़ दिया गया था। कारण ये गरीब लोग या तो सर्वे के समय घर पर नहीं मौजूद थे या इन्होंने अन्यत्र अपना निवास स्थान बना लिया था। मात्र इतनी सी गलती की सजा के कारण इन्हें पिछली सरकार ने योजना से वंचित कर दिया था। इसलिये वर्तमान में माननीय शिवराजसिंह जी की भाजपा सरकार के बनते ही मेरे द्वारा इस मामले से माननीय मुख्यमंत्री जी से भेंट कर अवगत कराया एवं 7 अगस्त 2020 को प्रेस नोट जारी कर 8 अगस्त 2020 को इसको न्यूजपेपर के माध्यम से भी इस मामले से अवगत कराया था। जिसे माननीय मुख्यमंत्री जी ने गंभीरता से लेते हुए इन छूटे हुए परिवारों का पुनः सर्वे करने हेतु मुझे आश्वासन दिया था जिसका ही परिणाम है कि अब मध्यप्रदेश शासन श्रम विभाग भोपाल के पत्र क्रं. 698/893/2020 दि. 31-08-2020 को पत्र जारी कर इन छूटे हुए परिवारों को पुनः सर्वे करने हेतु संबंधितो को निर्देशित किया है।

संबल योजना में अभी पात्र परिवारों को ये लाभ मिलते है जिससे ये 17 हजार परिवार वंचित थे। एक रूपये किलो गेहूँ-चांवल, 200 रूपये प्रतिमाह बिजली बिल, सदस्य की सामान्य मृत्यु होने पर 2 लाख रूपये एवं दुर्घटना मृत्यु होने पर 4 लाख रूपये मिलते थे, साथ ही अंत्येष्टि सहायता हेतु 5000 रूपये दिये जाते है, साथ ही श्रम विभाग इन्हें कई प्रकार के लाभ उपलब्ध कराता है। इसमें मेरे विधानसभा क्षेत्र के नगर पालिका नागदा 19689 परिवार, नगर पालिका खाचरौद 8787 परिवार एवं जनपद पंचायत खाचरौद ग्रामीण के करीब 60000 परिवार कुल 88476 परिवारो में से 17 हजार परिवार अभी सर्वे में छूटे है। जिससे इन परिवारों में मृत्यु होने पर लाभ से वंचित रह गये है। इन परिवारों को लाभ देने हेतु भाजपा सरकार ने पुनः 20 सितम्बर 2020 तक सर्वे करने का अधिकारियों को निर्देशित किया है। ताकि छूटे हुए पात्र परिवार इस योजना से वंचित ना रह सके।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!