25 किमी पैदल चलकर मुलताई पहुंचे किसानों ने सौंपा ज्ञापन बर्बाद फसलों के मुआवजे की मांग

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

ब्यूरो चीफ मुलताई, जिला बैतूल // राकेश अग्रवाल : 7509020406

 

मुलताई। सोमवार को पट्टन में चक्काजाम करने के बाद मंगलवार को कांग्रेस की आईटी सेल के सदस्यों ने हिवरखेड़ से मुलताई तक लगभग 25 किमी पैदल चलकर तहसील कार्यालय पहुंचकर तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा। सौंपे ज्ञापन में बर्बाद हुई फसलों के मुआवजे की मांग की गई, वहीं गिरदावरी के लिए एप बनाकर किसानों को उपलब्ध कराने की मांग करते हुए जंगली मवेशियों से फसलों के बचाव के लिए तार-फैंसिंग के लिए अनुदान देने की भी मांग रखी है।

मुलताई विधानसभा क्षेत्र में फसलों की नुकसानी के मामले में मुआवजे की मांग को लेकर कांग्रेस पूरी तरह से मौजूदा सरकार भाजपा पर हमलावर है एवं 40 हजार रुपए प्रति हेक्टयर की दर से मुआवजे की मांग कर रही है। सोमवार को ही पट्टन में कांग्रेसियों द्वारा लगभग आधा घंटा तक चक्काजाम किया था। इसके बाद मंगलवार को मप्र किसान कांग्रेस आईटी सेल के कार्यकर्ताओं द्वारा तहसीलदार सुधीर जैन को ज्ञापन सौंपा गया।

मप्र किसान आईटी सेल के जिला अध्यक्ष विपिन गावंडे सहित अन्य कार्यकर्ता पैदल मार्च करते हुए मुलताई तहसील कार्यालय पहुंचे। उनके साथ निलेश देशमुख, किशोर परिहार, नितेश साहू ,राजेश साहू,आशीष झारबड़े, राहुल खंडाग्रे सहित अन्य किसानों ने तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा। मुख्यमंत्री के नाम सौंपे ज्ञापन में किसानों ने मांग की है कि खरीब फसल सोयाबीन, उड़द, मूंग, मक्का प्राकृतिक आपदा से खराब हो चुकी है। ऐसे में किसानों को 40 हजार रुपए प्रति हेक्टयर की दर से मुआवजा दिया जाए।

फसल अनावरी 1952 के उत्पादन अनुसार नहीं करवाकर आज के नए फसल उत्पादन के अनुसार होनी चाहिए। फसल बीमा को पटवारी हल्का को इकाई नहीं मानकर खसरा नंबर को इकाई मानना चाहिए। वहीं रबी फसल के सीजन में यूरिया की कमी न हो, इसके लिए समय के पूर्व यूरिया की व्यवस्था की जानी चाहिए।

जंगली जानवरों से फसलों को बचाने के लिए तार-फेंसिंग पर किसानों को अनुदान दिया जाना चाहिए। फसल गिरदावरी के लिए एप बनाया जाना चाहिए जिससे किसान अपनी फसलों की जानकारी समय पर अपलोड कर सकें। कांग्रेसियों ने उचित मुआवजा नहीं दिए जाने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!