विधायक गुर्जर के नेतृत्व में ठेका श्रमिकों को कार्य पर रखने की मांग को लेकर नागदा शहर में ऐतिहासिक रूप से स्वेच्छिक बंद

Spread the love

ANI News india: http://aninewsindia.com

जिला ब्यूरो चीफ उज्जैन // विष्णु शर्मा : 8305895567

सभी व्यापारी संगठनों का मिला पूर्ण समर्थन

नागदा जं.। ठेका श्रमिकों को कार्य पर रखने की मांग को लेकर विधायक दिलीपसिंह गुर्जर के नेतृत्व में शहर कांग्रेस कमेटी द्वारा किये गये स्वेच्छिक नागदा बंद के आह्वान को शहर के व्यापारियों, व्यवसायियों तथा आमजन ने सम्पूर्ण समर्थन देकर नागदा बंद को ऐतिहासिक रूप से सफल बनाया है।

नागदा नगर के व्यापारियों, आमजन का आभार प्रकट करते है तथा श्रमिकों को आश्वस्त करते है कि शीघ्र अतिशीघ्र ठेका श्रमिकों को काम पर नहीं बुलाया जाता है तो एक प्रतिनिधि मण्डल माननीय मुख्यमंत्री, श्रम मंत्री, प्रमुख सचिव व आयुक्त श्रम विभाग इंदौर से मिलकर श्रमिकों की वस्तुस्थिति एवं उद्योग प्रबंधन के तानाशही रवैये से अवगत करायेगा।

यह बात विधायक दिलीपसिंह गुर्जर ने आज कांग्रेस कमेटी द्वारा श्रमिकों को काम पर नहीं बुलाये जाने के विरोध में आयोजित स्वेच्छिक नागदा बंद आंदोलन के उपरांत मुख्यमंत्री के नाम अनुविभागीय अधिकारी को दिए गए ज्ञापन के दौरान कहीं।

श्री गुर्जर ने कहां कि 22 मार्च लाॅकडाउन प्रभावशाली होने के पूर्व ग्रेसिम उद्योग प्रबंधन व अन्य उद्योगों द्वारा नियमित रूप से स्थायी व ठेका श्रमिकों से कार्य करवाया जा रहा था। लेकिन कोरोना काल के बाद शासन द्वारा उद्योगों को प्रारंभ करने के आदेश देने के पश्चात ऐसी क्या स्थिति निर्मित हुई जो श्रमिकों को बेरोजगार करने पर उद्योग प्रबंधन अपना तानाशाही रवैया अपनाये हुए है जबकि अन्य उद्योगों में सभी श्रमिकों को कार्य दिया जा रहा है।
श्री गुर्जर ने कहां कि उद्योग प्रबंधन इस बात की दलील दे रहा है कि उसका माल नहीं बिक रहा है। जिसके कारण वह श्रमिकों को काम नहीं दे पा रहा है। हमारी यह मांग है कि वर्तमान में 70 से 80 प्रतिशत उत्पादन उद्योग द्वारा स्थायी श्रमिकों पर ज्यादा वर्कलोड डालकर करवाया जा रहा है। ठेका श्रमिकों को भी 10-15 दिन की हाजरी की रोटेशन पद्धति लागू कर काम दिया जा सकता है लेकिन उद्योग प्रबंधन अपनी हठधर्मिता से बाज नहीं आ रहा है। अगर उद्योग प्रबंधन का यही रवैया रहा तो हम श्रमिकों का प्रतिनिधि मण्डल लेकर मुख्यमंत्री, श्रम मंत्री, प्रमुख सचिव एवं श्रमायुक्त से मुलाकात कर वस्तुस्थिति से अवगत कराते हुए श्रमिकों को काम पर रखने की मांग करेगें।
इस अवसर पर जिला कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष सुबोध स्वामी ने कहां कि भारतीय जनता पार्टी की उद्योग प्रबंधन को खुश करने की नीति के कारण आज श्रमिकों पर यह अत्याचार हो रहा है। जब-जब भारतीय जनता पार्टी सत्ता में आती है प्रबंधन खुलेआम श्रमिकों का शोषण करता है। हजारों की संख्या में श्रमिक आज बेरोजगार घुम रहा है लेकिन भाजपा का कोई भी जनप्रतिनिधि या नेता उनके हक, अधिकार की लडाई में श्रमिकों के साथ नजर नहीं आ रहा है। ठेका श्रमिकों द्वारा अपनी मांग को लेकर जब आंदोलन की रणनीति बनाई गई तो यहीं भाजपा ने शासन, प्रशासन को आदेशित कर एक दिन पूर्व ठेका श्रमिकों पर प्रकरण दर्ज करवा दिए।

ज्ञापन का वाचन शहर कांग्रेस अध्यक्ष राधे जायसवाल ने किया।

आंदोलन को रघुनाथसिंह बब्बु, कामरेड लोकुमल खत्री, ओमप्रकाश मौर्य, अजय शर्मा, साबीर पटेल, सुरेन्द्रसिंह मोकडी आदि ने सम्बोधित किया।
इस अवसर पर व्यापारी महासंघ अध्यक्ष विरेन्द्र जैन, किराना व्यापारी संघ अध्यक्ष किशोर सेठिया, पीसीसी सदस्य अनोखीलाल सोलंकी, योगेश मीणा, प्रमोद चैहान, संदीप चैधरी, जगदीश मिमरोट, अमित राठौर, विशाल गुर्जर, नाहरू मंसुरी, सलीम खान, शकुर कामरेड, राजु गुर्जर, फखरू खान, नरेन्द्र रघुवंशी, ईश्वर सोलंकी, सुनील गुर्जर, जगदीश मालवीय, राजेश मोहता, चेतन यादव, देव गुर्जर, मनोज पाण्डे, अशोक मीणा, कमलेश शंखवार, संजय चैधरी, मुन्ना सरकार, अनीश खान, संजय गिंदवानिया, रोमेश, असलम खान, राम भाटिया, जितेन्द्र चैहान, सुनील चन्द्रवात, कमल शर्मा, भानुसिंह आदि कांग्रेसजन उपस्थित थे।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!