भाजपा नेताओं द्वारा किसानों को मुआवजा नहीं मिले ऐसा षडयंत्र रचने का आरोप : विधायक गुर्जर

Spread the love

ANI News india: http://aninewsindia.com

जिला ब्यूरो चीफ उज्जैन // विष्णु शर्मा : 8305895567

राजनैतिक षड्यंत्र के तहत किसानों के हक के साथ खिलवाड़ किया गया तो  किया जाएगा आंदोलन।

खाचरौद । सोयाबीन की 90 से 100 प्रतिशत नष्ट हो चुकी फसलों का मुआवजा किसानों को नाम मात्र का मिले ऐसा षडयंत्र भाजपा नेताओं द्वारा राजस्व अधिकारियों पर दबाव बनाकर किया जा रहा है विधायक दिलीप सिंह गुर्जर ने चेतावनी देते हुए कहा कि राजनैतिक षडयंत्र के तहत किसानों के हक के साथ खिलवाडा किया गया तो आंदोलन किया जायेगा । 

आरोप लगाते हुए विधायक दिलीप सिंह गुर्जर ने कहा कि पूर्व विधायक शेखावत द्वारा सत्ता का दबाव बनाते हुए क्षेत्र के किसानों को मुआवजा न मिले , मिले भी तो एक गांव में 5-10 किसानों को ही मिले । ऐसा किसानों के विरूध अपनी विधानसभा की हार का बदला लेने हेतू किसानों को आर्थिक मार मारने हेतू षडयंत्र रचा जा रहा है । राजस्व अधिकारियों , पटवारियों एवं कर्मचारियों पर दबाव बनाया जा रहा है कि मुआवजा के संबंध में इस प्रकार रिपोर्ट दे कि 5-10 किसान ही एक गांव में पात्र हो या उस गांव को मुआवजा राशी से वंचित कर दें ।

श्री गुर्जर ने कहा कि जब कमलनाथ जी मुख्यमंत्री थे तब 2200 करोड रूपये की फसल बीमा की प्रीमियम राशी 40 प्रतिशत के मान से जमा करा दी थी जिसके कारण आज वर्ष 2018-19 की सोयाबीन फसल बीमा राशी खाचरौद तहसील के 12807 किसानों की 63 करोड 85 लाख 50 हजार रूपये तथा नागदा तहसील के 13918 किसानों की 78 करोड 59 लाख 06 हजार कुल 26 हजार किसानों को 142 करोड़ 44 लाख 56 हजार रूपये की राशी आज मुख्यमंत्री द्वारा डाली जा रही है । खराब सोयाबीन फसल का मुआवजा हेतू 1 अरब 74 करोड 82 लाख रूपये मुआवजा राशी की स्वीकृति प्रदान की थी जिसमें 25 प्रतिशत राशी के मान से 20 करोड 91 लाख 56 हजार की मुआवजा राशी का पूर्व में भुगतान कर दिया गया है । शेष राशी वर्तमान सरकार को भुगतान करना है ।

श्री गुर्जर ने बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री के रूप में शिवराज सिंह चौहान ने 40 हजार रूपये हेक्टेयर नष्ट सोयाबीन की फसल का मुआवजा देने की मांग कमलनाथ सरकार से की थी उसी मांग के अनुरूप कांग्रेस पार्टी द्वारा इस वर्ष सोयाबीन की फसले जो मौजक व अतिवर्षा से नष्ट होने पर उक्त मांग को याद दिलाते हुए किसानों को मुआवजा देने की मांग करने पर पूर्व विधायक शेखावत ने मांग को हास्यास्पद बताया था । क्षेत्र के किसानों ने भी जब फसलों का निरीक्षण करने जब अधिकारियों के साथ दौरे पर गये थे तो किसानों ने 40 हजार रूपये का मुआवजा प्रति हेक्टेयर की मांग सरकार से करने का आग्रह किया था लेकिन पूर्व विधायक ने किसान विरोधी रूख अपनाते हुए इसका विरोध किया था । भाजपा शासन की दोहरी नीति से क्षेत्र के किसानों में भारी आकोश है ।

श्री गुर्जर ने किसानों से आव्हान करते हुए अनुरोध किया है कि आपने व्यक्तिगत रूप से भी तहसील कार्यालय में अपनी नुकसानी का आवेदन देवें एवं उसकी एक प्रति मेरे पास भी पहुंचाये जिससे की उनकी क्षति का उचित मुआवजा राशी दिलवाने का प्रयास कर भाजपा के षडयंत्र को विफल किया जा सके ।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!