मंदसौर रेप कांड के विरोध में आप का प्रदर्शन, प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने और स्कूल प्रबंधन पर कार्रवाई की मांग

Spread the love
  • प्रदेश अध्यक्ष आलोक अग्रवाल के नेतृत्व में राजभवन की ओर जा रहे आप कार्यकर्ताओं की पुलिस से तीखी झड़प
  • एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, तत्काल दोषियों को सजा देने की मांग और कानून-व्यवस्था को दुरुस्त करने की चेतावनी

*भोपाल, 1 जुलाई 2018 ।* आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और राष्ट्रीय प्रवक्ता आलोक अग्रवाल के नेतृत्व में रविवार को आप कार्यकर्ताओं और नेताओं ने रोशनपुरा चौराहे पर मंदसौर रेप कांड के विरोध में प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के बाद राजभवन की ओर जा रहे आप कार्यकर्ताओं की तीखी झड़प हुई। इस दौरान कुछ कार्यकर्ताओं को चोटें भी आईं।

प्रदर्शन के दौरान आप कार्यकर्ताओं ने सरकार विरोधी नारे लगाए और महिला सुरक्षा सुनिश्चित करने की बात कही। इसके बाद पार्टी ने राज्यपाल के नाम ज्ञापन दिया *(ज्ञापन की प्रति खबर के नीचे संलग्न है),* जिसमें प्रदेश की बिगड़ती कानून-व्यवस्था के मद्देनजर राज्य सरकार को तत्काल बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाने और मंदसौर की घटना में दोषी स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की गई।

प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए आप के प्रदेश अध्यक्ष आलोक अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश की राजधानी से लेकर सुदूर कस्बों तक महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। लोगों के नागरिक अधिकारों को कुचला जा रहा है और अपराधी खुलेआम घूम रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश की सरकार नागरिकों को शांतिपूर्ण जीवन देने में नाकाम रही है इसलिए इसे तत्काल बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाया जाना चाहिए।

साथ ही उन्होंने कहा कि मंदसौर की घटना में स्कूल प्रबंधन की लापरवाही भी साफ नजर आती है। प्रशासन को चाहिए कि तत्काल जांच कराए और दोषी स्कूल प्रबंधन के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई करे। यह बेहद चिंताजनक है कि एक बच्ची स्कूल से किसी भी अजनबी के साथ चली जाती है, और स्कूल प्रबंधन इस संबंध में कोई निगरानी नहीं करता है।

इस मौके पर पार्टी की राज्य पीएसी सदस्य और वरिष्ठ नेता चित्तरूपा पालित ने कहा कि आज प्रदेश में महिला हिंसा देश में सबसे अधिक है। महिलाओं के अत्याचार के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और प्रदेश सरकार मौन धारण किए हुए है। आज हर तरफ अराजक स्थिति है। माताओं बहनों का सड़कों पर निकलना दूभर हो गया है। उन्होंने कहा कि इस सरकार को अब शासन में बने रहने का कोई हक नहीं है।

पार्टी की महिला शक्ति की अध्यक्ष साधना पाठक ने कहा कि प्रदेश में व्यापक अराजकता का दौर चल रहा है। महिला हिंसा के ऐसे-ऐसे मामले सामने आ रहे हैं, जो भयावह हैं और दिल दहलाने वाले हैं। ऐसे हालात में प्रदेश सरकार को सत्ता में बने रहने का कोई हक नहीं है। हमारी राज्यपाल महोदया से मांग है कि इस सरकार को तत्काल बर्खास्त कर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू किया जाए।

पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता फराज खान ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है और मंदसौर की हालिया घटना इसका ताजा उदाहरण है। अब वक्त आ गया है कि शिवराज सरकार को हटाकर राष्ट्रपति शासन लगा दिया जाए। मौजूदा सरकार के राज में अपराधी खुलेआम घूम रहे हैं और उन्हें कानून व्यवस्था का कोई डर नहीं है।

इस दौरान पार्टी के भोपाल लोकसभा प्रभारी नरेश दांगी ने कहा कि शिवराज सिंह खुद को मामा कहते हैं, लेकिन यह कंस मामा हैं और जो अपने राज्य में भांजे-भांजियों के साथ होने वाले अत्याचार को देख रहे हैं लेकिन इसे खत्म करने के लिए कोई कदम नहीं उठा रहे। अब शिवराज सिंह को शासन से हटाकर ही प्रदेश को अपराध मुक्त किया जा सकता है।

पार्टी के भोपाल उत्तर विधानसभा प्रभारी एवं विधानसभा प्रत्याशी जुबैर खान ने कहा कि शिवराज सरकार के राज में महिलाएं, बच्चे, युवक, किसान कोई भी सुरक्षित नहीं हैं। मंदसौर की घटना बताती है कि अब प्रदेश में अपराधियों के हौसले इतने बढ़ गए हैं कि वे दिन दहाड़े संगीन घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी मांग करती है कि इस सरकार को तुरंत बर्खास्त किया जाए।

महिला शक्ति की जिला संयोजिका रीना सक्सेना ने कहा कि प्रदेश की मौजूदा सरकार महिला सुरक्षा के मामले में पूरी तरह फेल रही है। एक घटना को हम भूल नहीं पाते हैं कि दूसरी बड़ी घटना सामने आ जाती है। भोपाल से लेकर मंदसौर और ग्वालियर से लेकर जबलपुर तक बलात्कार पीडि़त बच्चियों-महिलाओं-युवतियों की घटनाएं यह साबित करती हैं कि अब सरकार का कानून व्यवस्था पर कोई अंकुश नहीं रहा है।

*ज्ञापन की प्रति*

प्रति,

महामहिम राज्यपाल महोदया

मध्यप्रदेश शासन

*विषय:* प्रदेश में अराजकता की स्थिति को देखते हुए संविधान के अनुच्छेद 356 के तहत तत्काल राष्ट्रपति शासन लगाने बावत्।

माननीय महामहिम राज्यपाल महोदया

उपर्युक्त विषय में निवेदन है कि आज प्रदेश में अराजकता की स्थिति निर्मित हो गई है। हाल ही में मंदसौर में एक बच्ची के साथ दुष्कर्म की जो घटना हुई है, उसने प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति पर बड़ा प्रश्नचिन्ह खड़ा कर दिया है। इससे पहले भी हम कई मामलों में देख चुके हैं कि प्रदेश में अपराधी बेखौफ खुलेआम अपराध को अंजाम दे रहे हैं। आम नागरिकों का शांतिपूर्ण जीवन का अधिकार खत्म हो चुका है।

यही नहीं आज प्रदेश में 5 किसान रोज आत्महत्या कर रहे हैं। स्वास्थ्य की बात करें तो 50 प्रतिशत प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में डॉक्टर ही उपलब्ध नहीं है। शिक्षा में प्रदेश की हालत देश में बेहद पिछड़ी हुई है और 52 प्रतिशत विद्यार्थी यानी आधे से अधिक फेल हो रहे हैं। बिजली, पानी, सड़क आदि सुविधाओं का भी यही हाल है। इसके अलावा लूट और भ्रष्टाचार के कारण प्रदेश के नागरिकों की गाढ़ी कमाई विकास कार्यों में लगने के बजाय चंद उद्योगपतियों, अधिकारियों और नेताओं के हाथों में पहुंच रही है।

कुल मिलाकर, प्रदेश में एक अराजकता का माहौल बना हुआ है, जिसमें आम नागरिक को एक सुरक्षित, सम्मानीय और सार्थक जीवन की कल्पना करना भी मुश्किल है।

महोदया,

संविधान की संरक्षक होने के नाते हम आपसे इन हालात में हस्तक्षेप की आशा करते हैं।

आम आदमी पार्टी यह मांग करती है कि प्रदेश के नागरिकों को इस अराजकतापूर्ण माहौल से निजात दिलाने के लिए संविधान की धारा 356 के तहत तत्काल वर्तमान प्रदेश सरकार को बर्खास्त किया जाए और राष्ट्रपति शासन लगाया जाए। ताकि प्रदेश की जनता की लोकतांत्रिक मूल्यों एवं संविधान में आस्था और मजबूत हो।

साथ ही पार्टी मांग करती है कि मंदसौर की घटना में दोषियों को तुरंत सजा दी जाए और स्कूल प्रबंधन के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित की जाए, क्योंकि मामले में स्कूल प्रबंधन की लापरवाही साफ सामने आ रही है।

*निवेदक*

*आम आदमी पार्टी,*

*मध्य प्रदेश*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *