धर्म बदलकर शादी करने पर SC ST लड़की को न मिले आरक्षण: रमेश्वर

Spread the love

 ANI  NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 9893221036

 

मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने लव जिहाद पर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति/जनजाति वर्ग की लड़की यदि धर्म परिवर्तन कर शादी करती है तो उसको मिलने वाला लाभ भी खत्म होना चाहिए. उन्होंने राज्य सरकार से मांग की है कि लव जिहाद कानून में आरक्षण का लाभ भी समाप्त किया जाए.

मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने लव जिहाद पर प्रस्तावित कानून पर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति/जनजाति श्रेणी की लड़की यदि धर्म परिवर्तन कर शादी करती है तो उसको मिलने वाला लाभ भी खत्म होना चाहिए. उन्होंने राज्य सरकार से मांग की है कि लव जिहाद कानून में आरक्षण का लाभ भी समाप्त किया जाए.

बता दें कि प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को कहा कि राज्य सरकार अगले विधानसभा सत्र में लव जिहाद के खिलाफ कानून लाने जा रही है, जिसमें लव जिहाद करने वाले शख्स को 5 साल तक के कठोर कारावास की सा का प्रावधान रहेगा. ये गैर जमानती अपराध घोषित किया जाएगा.

नरोत्तम मिश्रा के इस ऐलान के साथ ही कांग्रेस भी आक्रामक मोड में आ गई. कांग्रेस ने गृह मंत्री के इस बयान का विरोध करते हुए कहा कि बीजेपी असल मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए इस तरीके के मुद्दे उठाती रहती है.

रामेश्वर शर्मा ने किया फैसले का स्वागत 

उधर, प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने सरकार के फैसले का स्वागत किया है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली मध्य प्रदेश सरकार द्वारा लव जिहाद पर कानून बनाने का निर्णय स्वागत योग्य है. गृह मंत्री ने इसकी जानकारी भी दी.

रामेश्वर शर्मा ने कहा कि लव जिहाद कानून के अंतर्गत अपहरण, बलात्कार, हत्या, डराने धमकाने के जैसी धाराओं को जोड़ा जाए. इसके साथ हम विचार करेंगे कि अनुसूचित जाति/जनजाति वर्ग की बहन,बेटी यदि धर्म परिवर्तन कर मुसलमान या ईसाई से शादी करती है तो उनके आरक्षण संबंधी सभी सुविधाएं खत्म हो जानी चाहिए, क्योंकि ना तो वो हिंदू रहेगी और ना ही अनुसूचित जाति/जनजाति से रहेगी.


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!