कमलनाथ ने कहा, ‘अपनी पूर्व की घोषणा को भूलकर शिवराज फिर एक नई घोषणा कर रहे हैं. सभी जानते हैं कि अपनी 15 वर्ष की सरकार में व वर्तमान 8 माह में शिवराज सरकार ने गौ माता के संरक्षण व संवर्धन के लिए कुछ भी नहीं किया उल्टा गौमाता के लिये चारे की राशि में कांग्रेस सरकार ने जो बीस रुपये प्रति गाय का प्रावधान किया था, उसे भी कम कर दिया.’

कमलनाथ ने कहा, ‘कांग्रेस सरकार ने अपने वचन पत्र में वादा किया था कि हमारी सरकार आने पर हम एक हज़ार गौशालाओं का निर्माण शुरू करायेंगे. हमने अपने वचन को पूरा किया. प्रदेश भर में गौशालाओं का निर्माण व्यापक स्तर पर चालू करवाया.

चलो कांग्रेस सरकार के गौ माता के संरक्षण व संवर्धन के लिए किए जा रहे कामों से बीजेपी को थोड़ी सदबुद्धि तो आई.’

वहीं, कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि ये सिर्फ घोषणावीर मुख्यमंत्री की एक और घोषणा भर है. अगर ये गौसेवा के प्रति इतने ईमानदार हैं तो फिर क्यों इन्होंने गाय के चारे का फंड 20 रुपये/प्रति गाय से घटाकर 3 रुपये/प्रति गाय किया? क्यों सड़कों/हाईवे पर इतनी गाय बारिश के दौरान बैठी रहती हैं?

पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि हमारी सरकार गौसेवा के प्रति असल मे ईमानदार थी इसलिए हमने 1 हजार गौशालाएं बनवाई.  इनको चाहिए था कि ये हमारे काम को और आगे ले जाते. हर पंचायत स्तर पर गौशाला खोलते. ये गौ कैबिनेट से क्या होगा जब इनकी नियत सिर्फ घोषणाओं की ही होती है.