मध्यप्रदेश में रेत माफियाओं ने किया किसानों का जीना मुहाल, मुख्य मार्ग छोड़कर नहर को बनाया हाइवे

Spread the love

 ANI  NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 9893221036

 

बाड़ी। ग्रामीण क्षेत्रों के किनारे नर्मदा नदी से रेत का चोरी से परिवहन बदस्तूर जारी हैं , बगैर रायल्टी ओवरलोड डम्फरों ने मुख्य सड़क से न निकलते हुए गाँव से निकल रहे जो गाँव की सड़कों को गड्डों में बदल दी ।
गौरामछवाई से नहर नहर आ रहे डम्फर।

कमलनाथ सरकार ने रेत ठेका को जिलेवार दिया और रायसेन जिले का ठेका राजेन्द्र रघुवंशी को मिला , लेकिन नेटवर्थ में हेराफेरी के चलते हाईकोर्ट ने यह ठेका निरस्त कर दिया लेकिन इसके बावजूद सुप्रीम कोर्ट ने क्या स्थगन आदेश दिया यह तो अधिकारियों को ही मालुम हैं लेकिन रेत की चोरी आज भी युद्ध स्तर की जा रही हैं । गौरामछवाई से भराने के बाद भारकच्छकलां से बकतरा होते हुए इन्हें मुख्य मार्ग से निकलना चाहिए था लेकिन बकतरा सीहोर जिले में होने से बहाँ के ठेकेदार द्वारा बगैर रायल्टी के डम्फरो को रोका जाता और कार्यवाही की जाती हैं .इससे बचने के लिए यह डम्फर भारकच्छकलां से सीधे नहर नहर ही निकलकर बाड़ी से निकलते हैं .
नहर से निकल रहे डम्फरो को रोका ग्रामीणों ने ।

हाल ही में नहरों का घटिया उन्नयनी करण हुआँ जो एक पानी छोड़ने के बाद ही नहरों का सीसीकरण बह गया जिससे किसानों को अपनी फसलों में पानी देने में परेशानियां का सामना करना पड़ता हैं .लेकिन रेत माफियाओं की कुदृष्टि इन नहरों पर भी पड़ गई और उन्होंने पकड़ाने के डर से नहरों को ही हाइवे समझ लिया .नहरों से रातभर निकल रहे डम्फरों से परेशान होकर आज सुबह ग्रामीणों ने इकट्ठा होकर इन डम्फरो को रोक लिया ..

पूर्व में इन ओवरलोड डम्फरों की अंधी रफ्तार से कई सड़क हादसे हुए जिसमें कई परिवारों के चिराग बुझ गए और जिन डम्फरों से हादसे हुए उन डम्फरों को आज भी न्यायालय ढूंढ रहा और विश्वासनीय जानकारी मिली हे कि आज भी एक ही नंबर के तीन तीन डम्पर चल रहै जो बगैर बीमा फिटनेस के हैं ..


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!