जंगल में छिपाकर रखा गया 150 बोरी मैंगनीज उड़नदस्ता ने जप्त किया

Spread the love

 ANI  NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 9893221036

मुख्य वनसंरक्षक बालाघाट नरेंद्र कुमार सनोडिया के निर्देशानुसार उड़नदस्ता प्रभारी वनक्षेत्रपाल धर्मेद्र बिसेन द्वारा दल के साथ 24 फरवरी को मॉयल लिमिटेड भरवेली की जांच के दौरान मॉयल सीमा से लगभग 400 मीटर के दायरे के क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर लगभग 150 बोरी तथा काफी मात्रा में ढेर बनाकर मैंग्नीज अवैध रूप से छिपा कर रखा हुआ पाया गया। मॉयल सीमा से लगे बीट पायली के कक्ष क्रमांक-666 में विभिन्न स्थानों पर जी.आई. तार झाड़ियों के बीच में पड़ा हुआ पाया गया, जो मॉयल सीमा से लगभग 500 मीटर की दूरी पर है। इस तार से अवैध शिकार होने की संभावना प्रतीत होती है।

श्री धर्मेंद्र बिसेन, वनक्षेत्रपाल, प्रभारी उड़नदस्ता वनवृत्त बालाघाट के मार्गदर्शन में श्री शिशुपाल गणवीर वनपाल, श्री नरेंद्र कुमार शेन्डे, श्री विजयभान नागेश्वर, श्री तिलक सिंह राहंगडाले, श्री सौरभ यादव दिलीप पालेवार वनरक्षक, श्री अंकित ठाकरे एवं श्री शंभू यादव द्वारा दिनांक 24 फरवरी 2021 को मॉयल लिमिटेड भरवेली की जांच के दौरान मॉयल सीमा से लगभग 400 मीटर के दायरे के क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर लगभग 150 बोरी तथा काफी मात्रा में ढेर बनाकर मैंगनीज़ अवैध रूप से छिपा कर रखा हुआ पाया गया।

सबकी मिली भगत से चल रहा है क्षेत्र में काले सोने का कारोबार

भरवेली,पायली, हीरापुर, रावड़बंदी, टवेझरी, मंझारा सहित अन्य जगहों पर अवैध तरीके से मैग्नीज का बड़े पैमाने पर चोरी का कार्य चल रहा है। जानकारी के अनुसार इन जगहों पर माॅयल और ग्राम की पहाड़ियों और जंगलों से मैग्नीज को चोरी करके बोरियों में भरकर जंगलों में एकत्रित करके रखा जाता है जानकार बताते है कि क्षेत्र के किसी रसूखदार व्यक्ति के द्वारा मैग्नीज के चोरी का कार्य कराया जाता है। बतादें कि कुछ माह पहले भरवेली माॅयल की बाॅउंड्री में छेद करके पहाड़ी से और माॅयल की जगह से मैग्नीज चोरी किये का मामला प्रकाष में आया था। भरेवली थाना पुलिस के द्वारा इस मामले में अवैध मैग्नीज और बोरियों में भरकर रखे गये मैग्नीज को जप्त करने की कार्यवाही की गई थी।

इस कार्यवाही के बाद कुछ दिनों क्षेत्र में कार्य बंद हो गया था। लेकिन पुनः माॅयल और पहाड़ से मैग्नीज चोरी करने का कार्य प्रारंभ हो चूका है। जानकार तो ये भी बतातें कि क्षेत्र के किसी रसूखदार व्यक्ति के द्वारा यह कार्य पुलिस विभाग और वनविभाग के साथ से मिली भगत करके कराया जा रहा है।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!