‘हम पूरे MP और छत्तीसगढ़ में विवादित जमीन खरीदते हैं’, छिंदवाड़ा में होर्डिंग देख प्रशासन पर भड़के BJP अध्यक्ष

Spread the love

 ANI  NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 9893221036

 

  • एमपी के छिंदवाड़ा शहर में लगा हुआ था विवादित बोर्ड
  • बोर्ड पर लिखा कि हम पूरे एमपी और छत्तीसगढ़ में विवादित जमीन खरीदते हैं
  • बोर्ड देख भड़के बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा
  • वीडी शर्मा के तेवर देख प्रशासन ने हटाया बोर्ड, आरोपी ने कहा, इसमें कुछ गलत नहीं

छिंदवाड़ा: पूर्व सीएम कमलनाथ के गृह जिले छिंदवाड़ा में एक बोर्ड को देख कर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा प्रशासन पर भड़क गए हैं। इसके बाद आनन-फानन में प्रशासन ने उस बोर्ड को हटवाया है। वहीं, बोर्ड लगाने वाले शख्स का कहना है कि इसमें कुछ भी गलत नहीं है। छिंदवाड़ा शहर में एक होर्डिंग लगी थी, जिस पर लिखा हुआ था कि हम पूरे एमपी और छत्तीसगढ़ में विवादित जमीन खरीदते हैं, इच्छुक व्यक्ति संपर्क करें।

नगरीय निकाय चुनाव को लेकर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा छिंदवाड़ा के दौरे पर थे। इस दौरान सोमवार की सुबह वह मॉर्निंग वॉक करने लिए शहर में निकले थे। तभी उनकी नजर एक मकान पर लगी होर्डिंग पर पड़ी। उस होर्डिंग पर लिखा था कि हम पूरे एमपी और छत्तीसगढ़ में विवादित जमीन खरीदते हैं। साथ ही उस पर नंबर लिखा हुआ था कि लोग हमसे संपर्क करें।

भड़के वीडी शर्मा

इस होर्डिंग को देख कर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा भड़क गए हैं। उन्होंने कहा है कि छिंदवाड़ा में ऐसी गुंडागर्दी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इसे लेकर वह छिंदवाड़ा प्रशासन पर भड़क गए। साथ ही उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को शहर में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। वीडी शर्मा के तेवर को देखते हुए प्रशासन ने तुरंत कार्रवाई शुरू कर दी है। यह बोर्ड देहात थाने से 500 मीटर की दूरी पर लगा हुआ था।

प्रशासन ने हटाया

वीडी शर्मा के तेवर को देखते हुए सोमवार को ही प्रशासन ने कार्रवाई शुरू कर दी। प्रशासन ने तुरंत दुकान पर लगे इस बोर्ड को हटा दिया है। मौके पर पहुंचे अधिकारी ने कहा कि यह विवादित प्रकार का बोर्ड था। नगर निगम और पुलिस की टीम ने यहां पहुंचकर कार्रवाई की है। अब आगे की कार्रवाई की जाएगी। अधिकारी ने कहा कि बोर्ड पर गैरकानूनी भाषा लिखा हुआ था।

वहीं, आरोपी अफसान सलाउद्दीन ने कहा कि यह भाषा उनके हिसाब से गलत है। हमारे हिसाब से भी ये गलत हो सकता है। इसे लिखने से फांसी की सजा तो नहीं है न इसमें।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!