राहुल गांधी ने मॉनसून सत्र में महिला आरक्षण बिल पास कराए जाने की मांग की

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ www.aninewsindia.com

महिला आरक्षण बिल को आगामी मॉनसून सत्र में पास करवाने को लेकर कांग्रेस पार्टी अध्‍यक्ष्‍ा राहुल गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी को चिठ्ठी लिखी है। राहुल ने चिट्ठी में लिखा है कि महिला आरक्षण बिल को आगामी मॉनसून सत्र में ही पास कराया जाए। राहुल ने पीएम से बोला कि लोकसभा में उनका बहुमत है, ऐसे में वे 2014 के अपने चुनावी घोषणापत्र के वादे को पूरा करें।

राहुल गांधी ने लिखा कि पीएममोदी अपनी रैलियों में स्त्रियों के स‍शक्तिकरण की बात करते हैं। ऐसे में इस विधेयक को पास करने से बेहतर स्त्रियों के हक में व क्‍या होगा। राहुल ने लिखा कि महिला आरक्षण विधेयक राज्‍यसभा में 2010 में ही पास हो गया था व उस वक्‍त बिल के पास होने को वर्तमान गवर्नमेंट में वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने एतिहासिक बताया था। ऐसे में इसे इस बार पास करांए जो कि लोकसभा में पिछले आठ वर्षसे लटका हुआ है।

कांग्रेस अध्यक्ष ने पीएम को संबोधित चिट्ठी में लिखा है, ‘जैसा कि आप जानते हैं कि महिला आरक्षण बिल 9 मार्च 2010 को राज्यसभा में पास किया गया, जो बीते 8 वर्ष से वह लोकसभा में अटका हुआ है। जब यह बिल पास किया गयातो उस वक्त नेता विपक्ष अरुण जेटली जी ने उसे ऐतिहास वमहत्वपूर्ण बताया था। तब से कांग्रेस पार्टी इस विधेयक के लिए प्रतिबद्ध है। ‘राहुल ने लिखा है, ‘बीजेपी भी इसी विचार की है। यह वर्ष 2014 उसके मैनिफेस्टो में प्रमुख मुद्दा था। ‘
उन्होंने लिखा है, ‘प्रधानमंत्री जी आपने कई सार्वजनिक रैलियों में स्त्रियों के सशक्तिकरण की बात कर चुके हैं। इससे बेहतर रास्ता व क्या हो सकता है कि स्त्रियों के मुद्दे पर हम आपको बिना शर्त समर्थन दे रहे हैं। आगामी संसद के सत्र से बेहतर समय क्या हो सकता है? इसमें व देरी करने से आगामी चुनावों में लागू करना असंभव हो जाएगा।
‘राहुल ने लिखा है, ‘महिलाओं के मुद्दे पर हमें पॉलिटिक्सव दलीय निष्ठा से आगे बढ़कर साथ आना होगा इसके साथ ही यह संदेश भी देना होगा कि परिवर्तन का समय आ गया है। ‘ बता दें कि आज कांग्रेस पार्टीराष्ट्र भर में महिला आक्रोश प्रोग्राम का आयोजन कर रही है जिसके तहत महिला आरक्षण बिल पास कराए जाने की मांग की जा रही है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *