इंदौर में लूट की सिलसिलेवार वारदातों को अंजाम देने वाले 03 आरोपी, क्राईम ब्रांच ने किया गिरफ्तार

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ www.aninewsindia.com

इन्दौर. क्राईम ब्रांच इंदौर की टीम द्वारा लूट/डकैती के मामलों में संलिप्त अपराधियों की धरपकड हेतु लगातार प्रयास किये जा रहे है, जिनकी पतारसी हेतु मुखबिर तंत्र को भी सक्रिय किया जाकर आरोपियों के बारे में सूचना ज्ञात करने के अनवरत्‌ प्रयत्न, पुलिस टीम द्वारा किये जा रहे थे। इसी कड़ी में क्राईम ब्रांच की टीम को थाना भवरकुआं एवं थाना तेजाजीनगर क्षेत्र में सिलसिलेवार लूट की वारदातों को अंजाम देने वाले कुछ संदेहियों के बारे में सूचना मिली।

उक्त सूचना पर तत्काल क्राईम ब्रांच एवं पुलिस थाना भंवरकुआ की टीम द्वारा संयुक्त कार्यवाही करते हुए, संदिग्ध आरोपियान 1. शाकिब पिता अली हसन उम्र- 18 साल निवासी-16 न्यू फ्रेन्डस कॉलोनी नूरानी नगर इंदौर, 2. वसीम पिता साजिद गौरी उम्र- 18 साल निवासी- शालीमार पैलेस चंदननगर इंदौर को पतारसी उपरांत धरदबोचा।

उपरोक्त दोंनों आरोंपियों ने पूछताछ में पुलिस टीम को बताया कि दिनांक 05.08.18 को ट्रांसपोर्टनगर इंदौर में उन्होंनें ट्रक ड्रायवर को चाकू मारकर लूटपाट की घटना कारित की थी। दोनों आरोपीगण ट्रक ड्रायवर से मोबाईल एवं नगदी लूटने के बाद रफूचक्कर हो गये थे, जिसके परिप्रेक्ष्य में थाना भवरकुआं में अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध अपराध क्र  517/18 धारा 394, 34 भादवि के तहत पंजीबद्ध किया गया था। आरोपियों ने बताया कि उसी दिन उन्होंनें ट्रांसपोर्टनगर में एक अन्य राहगीर को चाकू दिखाकर डरा धमकाके उससे मोबाईल एवं नगदी राशि छीनकर वे फरार हो गये थे। दोनों आरोपियों ने उपरोक्त घटनाओं को अंजाम दिया जाना कबूल किया जिनसे वारदात में लूटा गया मश्रुका बरामद किया जाकर आरोंपियों को विधिवत्‌ गिरफ्तार किया गया है।

आरोपियों से विस्तृत पूछताछ में उन्होने थाना भवरकुआं क्षेत्रांतर्गत घटित अपराध क्र 519/18 धारा 394, 34 भादवि एवं थाना तेजाजीगर के अपराध क्र 288/18 धारा 307, 324, 34 भादवि को भी अंजाम देने का खुलासा हुआ जिसमें दिनांक 06.08.2018 को आरोपी वसीम व शाकिब ने अपने एक अन्य साथी 3. इरद्गााद पिता इनायत खां उम्र 18 वर्ष निवासी सिरपुर रानी पैलेस के साथ संगनमत होकर, आई0टी0 पार्क  के पास रिंग रोड पर एक डंपर चालक को चाकू मारकर, घायल करके उससे पांच हजार रूपये नगदी तथा मोबाईल फोन आदि लूट लिया था। इसके बाद आरोपियों ने इंदौर बायपास के समीप कैलोद करताल रोड पर एक ट्रक क्लीनर को लूटने की नीयत से चाकू मारकर घायल किया था।

पुलिस उप महानिरीक्षक इन्दौर (शहर) श्री हरिनारायणाचारी मिश्र द्वारा शहर में लूट/डकैती के अपराधों पर नियंत्रण रखने व विगत समय में घटित हुई ऐसी घटनाओं की पतारसी कर ऐसे कृत्यों में लिप्त आरोपियों की धरपकड़ करने व लूटे गये माल मश्रुका की बरामदगी करने हेतु इंदौर पुलिस को निर्देशित किया गया है। उक्त निर्देशों के तारतम्य में पुलिस अधीक्षक (मुखयालय) इन्दौर श्री मो. यूसुफ कुरैशी के मार्गदर्शन में अति. पुलिस अधीक्षक क्राईम ब्रांच, इन्दौर श्री अमरेन्द्र सिंह द्वारा थाना क्राईम ब्रांच की टीम को इस दिशा में योजनाबद्ध तरीके से प्रभावी कार्यवाही करने हेतु समुचित निर्देश दिए गये ।

उपरोक्त आरोपीगण नश के आदि है जोकि पैसों की जरूरतों के चलते, संगनमत होकर चाकू से वार करते हुये सिलसिलेवार लूट की घटनाओं को अंजाम दे रहे थे। उपरोक्तघटनाओं में आरोपी इरद्गााद की संलिप्तता ज्ञात होने पर क्राईम ब्रांच की टीम द्वारा आरोपी इरद्गााद को भी दबिद्गा देकर धरदबोचा गया। आरोपियों से पृथक-पृथक हुई पूछताछ में आरोपी वसीम ने थाना खजराना में दर्ज अपराध क्र 661/16 धारा 380, 34 भादवि का खुलासा करते हुये पुलिस टीम को बताया कि उसने तत्समय अपने साथी आरोपी जफर पिता अय्यूब पठान उम्र-35 साल निवासी-6 नूरानीनगर इंदौर के साथ मिलकर खजराना क्षेत्र के वक्रतुण्ड नगर में एक मकान में घुसकर चोरी की वारदात को अंजाम दिया था जिसमें आरोपियों नें नगदी राशि, एलसीडी टीवी और कैमरा आदि कीमती सामान चोरी किया था।

जिस पर पुलिस टीम द्वारा आरोपी जफर की तलाश करते ज्ञात हुआ कि वह वर्तमान में हत्या के आरोप में थाना चंदननगर द्वारा की गई कार्यवाही में जिला जेल इंदौर में निरूद्ध है। आरोपी इरशाद, वसीम, व शाकिब को गिरफ्तार किया जाकर उनके कब्जे से समस्त घटनाओं का माल मश्रुका बरामद किया गया है। आरोपियों के कब्जे से पुलिस टीम को कई मोबाईल फांेन भी प्राप्त हुये है जो आरोपियों नें भिन्न- भिन्न जगहों से राहगीरों से छीने थे, उपरोक्त मोबाईल फोन छीनने के संबंध मेंकहां-कहां अपराध दर्ज है? इस संबंध में पतारसी की जाकर बरामद मोबाईल संबंधित थानों के सुपुर्द किये जायेंगे व वैधानिक कार्यवाही की जावेगी।

आरोपियों से पूछताछ में आरोपी वसीम ने बताया कि वह कक्षा 10 वीं तक पढ़ा है तथा इंदौर का ही रहने वाला है। वह क्रेन मशीन पर हेल्परी का काम ट्रांसपोर्ट नगर और तीन इमली के आसपास के क्षेत्रों में करता था। आरोपी का पूर्व में कोई आपराधिक रिकार्ड नहीं मिला है वह हमेशा पुलिस गिरफ्त से दूर रहा, लेकिन उसने उसके पूर्व के साथी आरोपी जफर के साथ इंदौर शहर में चोरी/नकबजनी/छीनाझपटी जैसी दर्जनों वारदातों को अंजाम दिया जाना कबूल किया है।

आरोपी वसीम ने बताया कि साथी आरोपियों के साथ नशे की हालत में वह ट्रक वालों पर बिल व बिल्टी चोरी करने का इल्जामात लगाकर ट्रक वालों को नीचे उतारकर, उनकी तलाशी लेता था इसी दौरान आरोपियान चालकों की जेब व पर्स में रखे पैसों को लूट लेते थे, विरोध करने पर चाकू मार देते थे। पूर्व में उक्त गिरोह का मुखय सरगना जफर था जोकि जेल में निरूद्ध होने से आरोपी वसीम व शाकिब, गैंग को चला रहे थे। उन्होंनें अपने साथ इरशाद को भी शामिल किया था।

पूर्व में गैंग का सरगना आरोपी जफर, आरोपी वसीम व शाकिब को दारू औऱ गांजा पिलाता था बाद ये दोनों आरोपी, वारदातों को अंजाम देते थे। वसीम ने पूछताछ में बताया कि उसने आरोपी जफर व शाकिब के साथ करीब एक- डेढ़ वर्ष पूर्व थाना बेटमा, तेजाजीनगर, भवरकुआं, बाणगंगा, एरोड्रम, के अलावा सागौरकुटी ब्रिज, पीथमपुर रोड तथा सुपर कॉरिडोर क्षेत्र की कई घटनाओं को स्वीकार किया है। आरोपी वसीम ने वर्ष 2016 में गैस टंकी के रिक्शा वाले के साथ बाणगंगा क्षेत्र में रूपयों की छीनाझपटी की वारदात को अंजाम दिया जाना भी कबूल किया।

आरोपी शाकिब ने पूछताछ में बताया कि वह कक्षा 5 वीं तक पढ़ा है तथा ए0सी0 सुधारने का काम करता था, आरोपी वर्तमान में टाटा मैजिक गाड़ी पर हेल्पर का काम करता है। शाकिब ने पुलिस टीम को बताया कि उसने जफर भाई, तथा वसीम के साथ मिलकर अनेकों वारदातें की है किंतु जफर के जेल चले जाने के बाद से वसीम के साथ ही मिलकर वह वारदातों को अंजाम दे रहा था। कुछ दिनों पूर्व ही आरोपी शाकिब ने आरोपी इरद्गााद को गिरोह चलाने के उद्‌देशय से अपने साथ वारदातों में शामिल किया था। आरोपी आपराधिक प्रवृत्ति का है लेकिन अब तक पुलिस गिरफ्त से बचता रहा है।

आरोपी इरशाद ने बताया कि वह कक्षा 9 वीं तक पढ़ा है तथा सिरपुर क्षेत्र इंदौर का ही रहने वाला है। आरोपी प्रिटिंग प्रेस पर काम करता था जिसने बीते दिनों भवरकुंआ तथा तेजाजीनगर थाना क्षेत्रों में चाकू मारकर लूट एवं छीनाझपटी की वारदातें, आरोपी शाकिब व वसीम के साथ मिलकर कारित करना स्वीकार किया हैं।

आरोपीगण नश के आदि है जोकि रूपयों की आवद्गयकता होने पर लंबे समय से लूट तथा छीनाझपटी की वारदातों को अंजाम दे रहे थे। आरोपीगणों ने इंदौर के लिंक रोड व बायपास के अलावा अन्य सीमावर्ती जिलों में भी वारदातें करना कबूल किया है। आरोपियों का पुलिस रिमाण्ड लिया जाकर विस्तृत पूछताछ की जावेगी जिसमें अन्य कई गंभीर अपराधों के खुलासा होने की संभावना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *