पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ सड़क पर उतरीं 21 पार्टियां, विरोध प्रदर्शन के दौरान कुछ जगहों पर हिंसा

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com/

नयी दिल्ली : पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध में कांग्रेस के नेतृत्व में 21 दलों ने सोमवार को सात घंटे (सुबह नौ बजे से दोपहर तीन बजे तक) भारत बंद किया. सोमवार की सुबह से शुरू हुए विरोध प्रदर्शन के दौरान कुछ जगहों पर हिंसा भी हुई. सड़कों पर टायर जलाकर जाम किया गया, तो ट्रेनों को भी रोका गया. कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों ने बंद को अभूतपूर्व रूप से सफल बताया, तो सरकार ने भारत बंद को विफल करार दिया. कांग्रेस अध्यक्ष ने दावा किया कि सभी विरोधी दल मोदी सरकार के खिलाफ एकजुट हैं, जबकि समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) विरोधी दलों के मंच पर नहीं दिखी.

इस अवसर पर नयी दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित विरोध प्रदर्शन में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश से दावा किया कि पूरा विपक्ष नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ एकजुट हो गया है. उन्होंने वादा किया कि वर्ष 2019 के आम चुनावों में विपक्षी दल मिलकर नरेंद्र मोदी की सरकार को हरा देंगे. सत्ता से हटा देंगे.

इस अवसर पर पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह भी मोदी सरकार पर जमकर बरसे. कहा कि मोदी सरकार ने कई ऐसे काम किये हैं, जो देशहित में नहीं थे. उन्होंने कहा कि इस सरकार को बदलने का वक्त आ गया है. उन्होंने विपक्ष से अपील की कि एनडीए सरकार को सत्ता से बेदखल करने और लोकतंत्र को बचाने के लिए सभी पार्टियां आपसी मतभेद को भूलकर एकजुट हो जायें.
शरद पवार ने भी कहा कि इस सरकार के जाने का वक्त हो गया है. उन्होंने कहा कि देश में बदलाव की जरूरत है. लोगों के हितों की रक्षा के लिए काम करने वाले सभी राजनीति दलों को मिलकर देशवासियों को व्यवस्था देनी चाहिए. इस जनिवरोधी सरकार को हटाने के लिए प्रयास होना चाहिए. प्रयास किया, तो देशवासियों का साथ जरूर मिलेगा.

अलग-अलग राज्यों में कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के नेता सुबह से ही बंद कराने के लिए सड़कों पर उतर आये. दूसरी तरफ, भाजपा शासित प्रदेशों में बंद को विफल करने के लिए पुलिस और प्रशासन ने पुख्ता इंतजाम किये थे. सभी राज्यों में हिंसक प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के आदेश दिये गये हैं.

इससे पूर्व, पेट्रोल-डीजल के दाम में लगातार हो रही बढ़ोतरी पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस की ओर से बुलाये गये ‘भारत बंद’ के तहत सोमवार को 20 से अधिक विपक्षी दलों के नेताओं ने राजघाट से रामलीला मैदान तक मार्च किया. इसमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित विभिन्न दलों के नेता शामिल हुए. प्रदर्शन में सोनिया गांधी के साथ पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह भी शामिल हुए.

कांग्रेस के मुताबिक समाजवादी पार्टी (सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा), द्रमुक, तृणमूल कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल (राजद), मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा), जद(एस), आम आदमी पार्टी (आप), तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा), राष्ट्रीय लोक दल (रालोद), झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो), नेशनल कॉन्फ्रेंस, झारखंड विकास मोर्चा-प्रजातांत्रिक (झाविमो-प्र), एआइयूडीएफ, केरल कांग्रेस (एम), रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी (आरएसपी), आइयूएमएल और लोकतांत्रिक जनता दल के नेता इस प्रदर्शन में शामिल हैं. लेकिन, सपा और बसपा का कोई नेता मंच पर नहीं दिखा.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने इस मौके पर संवाददाताओं से कहा, ‘देश के सभी विपक्षी दलों ने भारत बंद में शामिल होने का फैसला किया. इसके साथ ही यह भी सहमति बनी कि दिल्ली में भी हमें एकजुटता दिखानी होगी. सभी प्रदर्शन में शामिल हो रहे हैं.’ सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल ने इन सभी विपक्षी दलों के प्रमुख नेताओं से बात की थी, जिसके बाद सभी ने ‘भारत बंद’ का समर्थन किया. कांग्रेस ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी के खिलाफ ‘भारत बंद’ बुलाया है.

पार्टी ने सभी सामाजिक संगठनों और सामाजिक कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि वे ‘भारत बंद’ का समर्थन करें. कांग्रेस का कहना है कि उसकी ओर से बुलाया गया ‘भारत बंद’ सुबह 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक रहेगा, ताकि आम जनता को दिक्कत नहीं हो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *