दिव्यांग शिक्षक के घर में घुसकर सो गया जीआरपी का आरक्षक, बमुश्किल घर से निकला आरक्षक

Spread the love

ANI NEWS INDIA http://aninewsindia.com

जिला ब्यूरो चीफ, जिला नरसिंहपुर // अरुण श्रीवास्तव : 91316 56179

शिक्षक की दिव्यांग पत्नि व वृद्ध ससुर भयभीत होकर घर से निकले बाहर, पड़ोसी के हस्तक्षेप के बाद बमुश्किल घर से निकला आरक्षक
नरसिंहपुर। निर्वाचन आयोग द्वारा बनाये गये जिले के दिव्यांग आईकॉन नेत्रहीन शिक्षक सुशीलचंद्र गुप्ता के परिवार को कथित रूप से नशे में चूर एक जीआरपी कर्मी ने न सिर्फ घर में घुसकर प्रताडि़त किया बल्कि उनके घर में रखे पलंग में यूं सोया कि उठाये से नही उठा।
दिव्यांग आईकॉन सुशीलचंद्र गुप्ता उस वक्त घर में मौजूद नही थे, घर में उनकी पत्नि नीलू गुप्ता, 7-8 साल का बेटा व वृद्ध ससुर कलाराम मौजूद थे, जो जीआरपी के आरक्षक की इस हरकत से बेहद भयभीत हो गये। पड़ोसियों के हस्तक्षेप के बाद आरक्षक बमुश्किल उनके घर के पलंग से उठा और फिर चला गया।
सुशीलचंद्र गुप्ता ने कोतवाली थाना प्रभारी से इसकी शिकायत करते हुए बताया कि 1 दिसंबर को जब वे दिव्यांगों की खेल-कूद प्रतियोगिता में शामिल होने शहर के ही चंदन देवी स्कूल गये हुए थे, तब दोपहर करीब सवा 2 बजे जीआरपी नरसिंहपुर का आरक्षक पुष्पेंद्र त्रिपाठी उनके घर में आया और 1 वर्ष पूर्व मैहर के पास ट्रेन में सुशीलचंद्र गुप्ता के साथ हुई किसी वारदात के संबंध में रौबीले अंदाज में बात करने लगा।
इस दौरान वह कक्ष में रखे एक पलंग में जूते पहनकर ही लेट गया। यह दृश्य देखकर सुशीलचंद्र की भयभीत पत्नि नीलू जो पैरों से विकलांग हैं एवं उनके ससुर कलाराम गुप्ता घर से निकलकर बाहर आ गये। नीलू गुप्ता ने जब अपने पड़ोसी बबलू कहार के घर जाकर यह बात उन्हे बतलायी तो वे उनके घर पहुंचे और आरक्षक से बाहर निकलने के लिए कहने लगे। जब वह नही माना तो उसकी हरकतों की एक वीडियो भी बना ली।
इसके बाद शाम करीब सवा 4 बजे जब नेत्रहीन सुशीलचंद्र गुप्ता घर आये तो उन्होंने अपने पत्नि के साथ थाने पहुंचकर इसकी शिकायत की। इस संबंध में जीआरपी चौकी नरसिंहपुर के प्रभारी कहना है कि आरक्षक की इस हरकत की जानकारी उन्होंने अपने उच्चाधिकारियों को भेज दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *