दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा होंगे गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि

Spread the love

ANI NEWS INDIA @ http://aninewsindia.com

दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सायरिल रामफोसा (Cyril Ramaphosa) गणतंत्र दिवस समारोह के चीफ गेस्ट होंगे. अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस आयर्स में आयोजित जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर पीएम मोदी ने सायरिल रामफोसा से मुलाकात की.

इस दौरान पीएम मोदी ने सायरिल रामफोसा को गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि बनने के लिए आमंत्रित किया. दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति ने पीएम मोदी के आमंत्रण को स्वीकार कर लिया.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर कहा, ”राष्ट्रपति रामफोसा ने गणतंत्र दिवस समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होने के भारत के न्योते को स्वीकार कर लिया है”. गौरतलब है कि अगले वर्ष महात्मा गांधी की 150वीं जयंती भी है.

आपको बता दें कि पहले भारत ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को बतौर मुख्य अतिथि आमंत्रित किया था, लेकिन उनकी तरफ से कार्यक्रम में शामिल होने पर असमर्थता जता दी गई. बीते दिनों व्हाइट हाउस की प्रवक्ता ने कहा, ‘‘राष्ट्रपति ट्रंप 26 जनवरी 2019 को भारत के गणतंत्र दिवस परेड के मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाए जाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निमंत्रण को पाकर सम्मानित महसूस करते हैं लेकिन वह पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों के कारण इसमें भाग लेने में असमर्थ हैं’ बताया जा रहा है कि जब भारत गणतंत्र दिवस मनाएगा उसी समय ट्रंप अमेरिकी कांग्रेस के दोनों सदनों को वार्षिक स्टेट ऑफ यूनियन (एसओटीयू) संबोधन के तहत संबोधित कर सकते हैं. आम तौर पर जनवरी के अंतिम सप्ताह या फरवरी के पहले सप्ताह में यह संबोधन होता है.

सायरिल रामफोसा का गणतंत्र दिवस में मुख्य अतिथि होना खास होगा, क्योंकि इसी साल राष्ट्रपति महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाई जाएगी. सायरिल रामफोसा को महात्मा गांधी और दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला का समर्थक माना जाता है.

75 वर्षीय जैकब जुमा के इस्तीफे के बाद 65 वर्षीय नेता सायरिल रामफोसा को इसी साल अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस (एएनसी) का नया अध्यक्ष चुना गया था. फरवरी में उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति पद की शपथ ली.

बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप ने गणतंत्र दिवस पर भारत का निमंत्रण अस्वीकार कर दिया था. ट्रंप ने भारत ना आ पाने के लिए 26 जनवरी के आसपास अपनी व्यस्तता को वजह बताया था. माना जा रहा कि ट्रंप का स्टेट ऑफ यूनियन को संबोधन मुख्य वजह है, जो कि 22 जनवरी से फरवरी के पहले सप्ताह के बीच हो सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *