5 लाख रुपए में शुरू की बिना मिट्टी के खेती, सिर्फ दो साल में कमा लिए 4 करोड़

Spread the love

नई दिल्ली। भारत एक कृषि प्रधान देश है। यहां की करीब 60 फीसदी आबादी खेती से जुड़े कार्यों में लगी हुई है। लेकिन बीते कुछ सालों में युवाओं का खेती से मोह भंग होता जा रहा है। इसका कारण खेती से होने वाली आमदनी में कमी आना है। आज हम आपको एक एेसी खेती के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे बिना मिट्टी और कम जगह में आसानी से किया जा सकता है। इसको फैक्ट्री की खेती कहा जाता है। इस प्रकार की खेती के जरिए हर माह लाखों रुपए कमाए जा सकते हैं। जापान की एक कंपनी इस प्रकार से बड़े पैमाने पर खेती कर रही है। साथ ही यह कंपनी सभी देशों में इस प्रकार की खेती करने का अवसर दे रही है। अाप भी इस कंपनी के जरिए भारत में बिना मिट्टी के खेती कर हर महीने लाखों रुपए कमा सकते हैं।

कैसे आया बिना मिट्टी की खेती का IDEA

दरअसल, जापान में हर साल तूफान और प्राकृतिक आपदाओं से बड़े पैमाने पर फसल बेकार हो जाती है। इसका हल निकालने के लिए 2002 में जापान के कशिस्वा सी शहर निवासी तत्सुओ मुरोता ने इसका हल निकालने के लिए प्रयास शुरू किया। 2004 में मुरोता ने कुछ वैज्ञानिकों के साथ मिलकर इंडोर खेती का तरीका खोजा। उन्होंने मिराई लिमिटेड नाम से कंपनी बनाई। आज वह पूरे जापान में 40 जगहों पर बिना मिट्टी के खेती कर रहे हैं।

केवल पानी से होती है खेती

कंपनी ने जिस विशेष तकनीक से खेती का तरीका अपनाया है उसमें केवल पानी की जरूरत होती है। इस विधि के अनुसार पौधों को बढ़ाने के लिए छोटे-छोटे एलईडी बल्बों के जरिए रोशनी दी जाती है। कंपनी का दावा है कि इस विधि से बिना किसी खाद और कीटनाशक के खेती होती है और इसका उत्पादन सामान्य खेती से ढाई गुना ज्यादा होता है। इस कार्य के लिए कंपनी को जापान में कई अवार्ड मिल चुके हैं।

जल्द भारत में आएगी कंपनी

भारत में जनसंख्या बढ़ने को साथ ही खेती की जमीन भी लगातार घटती जा रही है। अब तक कई देशों में अपनी पहुंच बना चुकी यह जापानी कंपनी अब भारत आने की तैयारी कर रही है। कंपनी के पास इस समय जापान से बाहर करीब 600 फैक्ट्रियों में खेती करने का ऑफर है। यह कंपनी अपने साझीदारों को जापान बुलाकर ट्रेनिंग भी देती है। यदि आप भी इस कंपनी के साथ जुड़कर बिना मिट्टी की खेती करना चाहते हैं तो अाप कंपनी की वेबसाइट पर आवेदन कर सकते हैं।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!