तीरंदाजी कोच रिचपाल सिंह का छात्रा से अवैध संबंध मामला दिल्ली पहुंचा, दिये जांच के आदेश, मध्य प्रदेश खेल विभाग ने दबाया मामला

Spread the love

ANI NEWS INDIA

तीरंदाजी कोच रिचपाल सिंह का छात्रा से अवैध संबंध मामला दिल्ली पहुंचा, दिये जांच के आदेश, मध्य प्रदेश खेल विभाग ने दबाया मामला

भोपाल से विनय जी. डेविड 9893221036

भोपाल । मुझे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया से न्याय की पूरी उम्मीद है क्योंकि इन्होंने महिलाओं और बेटियों के प्रोत्साहन के लिए बहुत सारे अच्छे काम किए हैं। मैं निराश हूं लेकिन उम्मीद नहीं हारी हूं। यह कहना है उस दुखियारी मोहनी सलारिया पत्नी रिछपाल सिंह सलारिया का जोकि अपने पति की वजह से लगभग ढाई साल से अपनी सात साल की बेटी को गले लगाए अपनी मां के यहां घुट-घुट कर जीवन बसर कर रही है।

मोहनी अपने पति के एक अंतरराष्ट्रीय महिला तीरंदाज से नाजायज सम्बन्धों की बात पूर्व खेल मंत्री जीतू पटवारी तथा पूर्व व वर्तमान खेल संचालकों तक को रो-रोकर बता चुकी है लेकिन उसके दर्द को समझने की किसी ने कोशिश नहीं की। कहते हैं जिसका कोई नहीं होता उसका भगवान होता है। मोहनी के जीवन में केन्द्रीय मंत्री और भारतीय तीरंदाजी संघ के अध्यक्ष अर्जुन मुण्डा भगवान स्वरूप ही प्रकट हुए हैं। श्री मुण्डा ने जबलपुर के रानीताल खेल परिसर में संचालित मध्य प्रदेश तीरंदाजी एकेडमी के मुख्य सलाहकार प्रशिक्षक रिछपाल सिंह के कृत्यों को गम्भीरता से लेते हुए 11 जुलाई, 2020 को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र प्रेषित करते हुए मामले की निष्पक्ष जांच कराने का आग्रह किया है।

श्री मुण्डा ने मुख्यमंत्री को प्रेषित पत्र में लिखा है कि चूंकि प्रशिक्षक पर किसी और ने नहीं बल्कि उसकी पत्नी ने आरोप लगाए हैं लिहाजा इस मामले की तुरंत जांच कराकर भारतीय तीरंदाजी संघ और मध्य प्रदेश तीरंदाजी एकेडमी की धूमिल होती छवि को बचाया जाना चाहिए। केन्द्रीय मंत्री मुंडा ने पत्र में एकेडमी के प्रशिक्षक रिछपाल सिंह की पत्नी की शिकायतों एवं मीडिया में प्रकाशित खबरों को काफी गम्भीर माना है। उन्होंने पत्र में लिखा कि कोच पर लगे आरोपों से तीरंदाजी खेल के साथ-साथ मध्य प्रदेश तीरंदाजी एकेडमी की छवि भी धूमिल हो रही है। उन्होंने मुख्यमंत्री चौहान से आग्रह किया कि इस मामले में निर्धारित समय सीमा में जांच कराकर उसकी रिपोर्ट संघ को भी भेजी जाए ताकि आगे निष्पक्ष कार्रवाई की जा सके।

मोहनी की जहां तक बात है वह संचालनालय खेल भोपाल के आला अधिकारियों से करीब ढाई साल से अपने पति के कृत्यों के साथ स्वयं का परिवार टूटने से बचाने की गुहार लगा रही है लेकिन उसे आश्वासन मिलने के अलावा कुछ भी नसीब नहीं हुआ। अधिकारियों की हीलाहवाली के चलते प्रशिक्षक का दुस्साहस इस कदर बढ़ गया कि उसने पत्नी से छुटकारा पाने के लिए जम्मू की अदालत में वाद भी दायर कर दिया। इतना ही नहीं उसने खेल अधिकारियों को झूठे शपथ-पत्र से भ्रमित कर मामले को रफा-दफा करने की भी नापाक कोशिश की।
पिछले साल प्रशिक्षक और उसकी शिष्या को भारतीय खेल प्राधिकरण के रोहतक (हरियाणा) केन्द्र में लगे जूनियर नेशनल कैम्प से एक साथ 21 से 24 जुलाई, 2019 तक गायब रहने की भी खूब चर्चा रही। तब साई ने इस वाकये के सिलसिले में शिविर से सम्बन्धित अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी थी, जिसके बाद फैसला किया गया कि खिलाड़ी और प्रशिक्षक पर अनुशासनात्मक कदम उठाते हुए शिविर से बाहर कर दिया जाए।

साई ने तीरंदाज और प्रशिक्षक को भेजे गए पत्र में लिखा था कि नेशनल कैम्प में अनुशासन का ध्यान रखना सबसे अहम है और सक्षम अधिकारियों ने इसे गम्भीरता से देखा जिससे अनुशासनात्मक कार्रवाई के तहत आपका नाम मौजूदा नेशनल कैम्प से तुरंत प्रभाव से हटाया जाता है। एक साल पूर्व के इस मामले से खेल विभाग के साथ ही जबलपुर का हर सदस्य वाकिफ है लेकिन मोहनी सलारिया की मदद करने की बजाय उसे फुटबाल बना दिया गया। इसे दुर्भाग्य कहें या कुछ और जिस प्रशिक्षक का मध्य प्रदेश तीरंदाजी एकेडमी से चार साल का अनुबंध 28 फरवरी, 2020 को ही समाप्त हो चुका है, उसका नाम विभाग द्वारा द्रोणाचार्य अवार्ड के लिए नामांकित किया गया है।

संचालनालय खेल, मध्य प्रदेश के अब तक के रवैए से आजिज, मोहनी सलारिया ने आखिरकार न्याय के लिए केन्द्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू के व्यक्तिगत मेल पर अपना एक शिकायती पत्र भेजा। यह पत्र मोहनी द्वारा भारतीय तीरंदाजी संघ के सचिव प्रमोद चंद्रूकर को भी भेजा गया। भला हो प्रमोद चंद्रूकर का जिन्होंने भारतीय तीरंदाजी संघ के अध्यक्ष अर्जुन मुण्डा को प्रशिक्षक के खिलाफ समाचार-पत्रों में प्रकाशित खबरों की कतरनें और केन्द्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू को प्रेषित पत्र भेज दिए और श्री मुण्डा ने मामले की गम्भीरता को संज्ञान में लेते हुए 11 जुलाई को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को पत्र प्रेषित कर इस बात के संकेत दिए कि वह खेलों में कदाचार के खिलाफ हैं।

प्रशिक्षक रिछपाल के मामले में सब कुछ शीशे की तरह साफ था बावजूद पूर्व खेल मंत्री जीतू पटवारी ने मोहनी को न्याय दिलाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। मोहनी की कही सच मानें तो वह तीन मर्तबा जीतू पटवारी से उसका परिवार बचाने की गुहार लगाने के साथ पूर्व संचालक खेल डा. एस.एल. थाउसेन से मिलकर भी अपना दुखड़ा खूब रोई। उसने पूर्व संचालक वी.के. सिंह को भी पत्र प्रेषित किया लेकिन नतीजा ढाक के तीन पात निकला। 10 जुलाई को संचालक खेल का पदभार ग्रहण करने वाले पवन कुमार जैन को भी मोहनी पत्र प्रेषित कर चुकी है। श्री जैन ने दुखियारी को भरोसा दिया है कि उसे इंसाफ जरूर मिलेगा। श्री जैन भी इस बात से हैरत में हैं कि जिस प्रशिक्षक रिछपाल का अनुबंध 28 फरवरी को ही समाप्त हो चुका है, वह जबलपुर में क्यों और कैसे रुका है। भारतीय तीरंदाजी संघ के अध्यक्ष अर्जुन मुण्डा द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को लिखे पत्र को 17 दिन हो चुके हैं लेकिन जांच की आंच कहां तक पहुंची, इसका भान किसी को नहीं है।

मध्य प्रदेश तीरंदाजी संघ का रवैया ढुलमुल और गैरजिम्मेदाराना

प्रशिक्षक रिछपाल और उसकी पत्नी के मामले में मध्य प्रदेश तीरंदाजी संघ का रवैया भी ढुलमुल और गैरजिम्मेदाराना कहा जा सकता है। मध्य प्रदेश तीरंदाजी संघ की सचिव प्रीति जैन और उनके पति भारतीय तीरंदाजी संघ के उपाध्यक्ष धन्य कुमार जैन (डी.के. जैन) को इस मामले में सब कुछ पता है, लेकिन इन लोगों ने भी मोहनी की मदद नहीं की। संघ की सचिव होने के नाते प्रीति जैन को भारतीय तीरंदाजी संघ के साथ ही संचालनालय, खेल भोपाल को कम से कम एक पत्र तो लिखना ही था लेकिन इन्होंने भी अपने दायित्व का निर्वहन करने की जहमत नहीं उठाई। हां, रिछपाल की पल-पल की गतिविधियों से मोहनी सलारिया के कान जरूर भरती रहीं।

मध्य प्रदेश तत्कालीन खेल संचालक एसएल थाउसन ने एक नोटरी कराकर कराया था समझौता, पति कोच ने उड़ाई धज्जियां

पूरी घटना से खेल विभाग और मप्र शासन की भद्द पिट रही है। दो-तीन साल पुराने मामले को न तो विभाग के आला अफसर सुलझा पाए और न ही जबलपुर पुलिस ने किसी तरह की काउंसिलिंग कर निपटाने का जिम्मे उठाया। दो साल पहले भी इसी तरह का हंगामा अकादमी मे हुआ था। मामला भी जबलपुर के लॉर्डगंज थाने से लेकर एसपी तक पहुंचा था। बीच-बीच में कोच की पत्नी पुलिस अफसरों से अपनी ब्याथा सुनाती रही, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। इसी तरह की कार्यशैली खेल एवं युवा कल्याण विभाग की रही। पिछली 14 फरवरी को तत्कालीन खेल संचालक एसएल थाउसन ने एक नॉटरी कराकर 25 हजार रुपए हर माह देने का समझौता कराया था, लेकिन उस पर भी अमल नहीं हुआ। यहां बदमाशी यह हुई की कोच की पत्नी को नॉटरी की प्रति तक मुहैया नहीं कराई गई। लिहाजा, परेशान होकर वापस जम्मू लौट गई। यहां बता दें, कोच रिछपाल सिंह सिलारिया को आर्मी से हर माह 20 हजार रुपए पेंशन एवं खेल विभाग मप्र से एक लाख 35 हजार रुपए मिलते हैं। जिसमें से वह कोर्ट के आदेशानुसार मात्र 10 हजार रुपए मोहिनी के अकाउंट में जमा करता था, यह राशि भी कई माह से कोच ने जमा नहीं की है।

मध्य प्रदेश खेल विभाग लगा है कोच की काली करतूतों को दबाने, संचालक नहीं मिलना चाहते हैं मोहिनी से

मध्य प्रदेश खेल एवं युवा कल्याण विभाग के संचालक पवन जैन इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं जब संचालक से मिलने रिछपाल सिंह सलारिया कोच की पत्नी अपनी बात रखने जम्मू से भोपाल स्थित संचनालय के दफ्तर पहुंची तो संचालक पवन जैन ने उनकी पत्नी से मिलने को इनकार कर दिया, पिछले 2 वर्षों से जबलपुर तीरंदाजी एकेडमी में छात्रों के शोषण की कहानियां चल रही है सूत्रों से प्राप्त सूचना के आधार पर जिन छात्राओं को टूर्नामेंट में खेलने की अनुमति प्रदान की जाती है उनके साथ कहीं ना कहीं शारीरिक शोषण का मामला सुर्खियों में है इसकी शिकायत केंद्रीय मिनिस्टर एवं केंद्रीय तीरंदाजी संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष अर्जुन मुंडा तक  पहुंच गई थी जिस को संज्ञान में लेते हुए अर्जुन मुंडा ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह को चिट्ठी लिखकर गंभीर अपराध छात्राओं के साथ शोषण की जांच करने और दोषी के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कहा था परंतु मध्य प्रदेश सरकार और खेल विभाग ने इस चिट्ठी को दबा दिया, तीरंदाजी कोच रिचपाल की पत्नी मोहिनी सलारिया ने विभाग के अधिकारियों को खेल विभाग और अपने पति रिचपाल सलारिया के साथ छात्राओं के अवैध संबंध का खुलासा किया था रिचपाल की पत्नी ने अपने पति को छात्रा के साथ दो बार रंगे हाथ  एक रूम में पकड़ा था, उसका कहना है कि मध्य प्रदेश के खेल मंत्री अगर उसके पति और उस छात्रा को दिल्ली में नहीं रुकवाती तो उनकी जिंदगी में यह तूफान नहीं आता, तीरंदाजी अवार्ड पाने के बाद उस छात्रा और पति कोच के स्वागत सत्कार के लिए मध्य प्रदेश के खेल मंत्री ने उन्हें दिल्ली में करीब 7 दिवस रुकवाया था उसी दौरान कोच की पत्नी मोहनी सलारिया भी दिल्ली पहुंच गई थी जिन्होंने अपनी पत्नी के साथ तीरंदाजी छात्रा को  एक ही रूम मैं आपत्तिजनक स्थिति में पकड़ा था जिसके बाद रिछपाल पाल सिंह ने पत्नी के साथ मारपीट कर उसे चुप करा दिया था।

कैसे होता है छात्राओं का शोषण पूरी कहानी जल्द  प्रस्तुत की जाएगी, बस थोड़ा सा इंतजार…


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!